सूती वस्त्र उद्योग (Cotton Textile Industry)

सूती वस्त्र उद्योग

आधुनिक ढंग से सूती वस्त्र की पहली मिल की स्थापना 1818 ई. में कोलकाता के समीप फोर्ट ग्लास्टर में की गयी थी, किन्तु यह असफल रही थी ।
सबसे पहला सफल आधुनिक सूती कपड़ा कारखाना 1854 ई. में बम्बई में कवासजी डावर द्वारा खोला गया, जिसमें 1856 ई. से उत्पादन प्रारंभ हुआ।
सूती वस्त्र उद्योग का सर्वाधिक केन्द्रीकरण महाराष्ट्र एवं गुजरात राज्य में है। अन्य प्रमुख राज्य है-पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, आन्ध्र प्रदेश, केरल, उत्तर प्रदेश ।
मुम्बई को भारत के सूती वस्त्रों की राजधानी के उपनाम से जाना जाता है।

यह भी पढ़े विद्युत धारा,1 एंपियर,धारा के छोटे मात्रक,धारा वाहक,धारा घनत्व का अध्ययन

सूती वस्त्र उद्योग से सम्बंधित महत्वपूर्ण बिंदु :-

कानपुर को उत्तर भारत का मैनचेस्टर कहा जाता है।
कोयम्बटूर को दक्षिण भारत का मैनचेस्टर कहा जाता है।
अहमदाबाद को भारत का बोस्टन कहा जाता है।
भारतीय अर्थव्यवस्था में कपड़ा उद्योग का स्थान कृषि के बाद दूसरा है।
यह भारत का सबसे प्रचीन उद्योग है।
यह देश का सबसे बड़ा संगठित एवं व्यापक उद्योग है।
यह उद्योग देश में कृषि के बाद रोजगार प्रदान करने वाला दूसरा सबसे बड़ा क्षेत्र है।
औद्योगिक उत्पादन में वस्त्र उद्योग का योगदान 14% है ।
देश के सकल घरेलू उत्पाद (जी.डी.पी.) में यह उद्योग 4% एवं देश की निर्यात आय में 11% योगदान है ।
रोजगार प्रदान करने की दृष्टि से कृषि के बाद वस्त्र उद्योग दूसरा सबसे बड़ा क्षेत्र है।

यह भी पढ़े सौर मण्डल और इनके ग्रहों की महत्वपूर्ण जानकारी

1. सूती वस्त्र उद्योग कहाँ है ?

महाराष्ट्र देश में सूती वस्त्रों का प्रथम उत्पादक राज्य है। मुम्बई कपड़ा मिलों का मुख्य केंद्र है। शोलापुर, कोल्हापुर, नागपुर, पुणे, औरंगाबाद और जलगाँव महाराष्ट्र के अन्य महत्वपूर्ण केंद्र हैं।
गुजरात का सूती वस्त्रों के उत्पादन में दूसरा स्थान है। राज्य का मुख्य केंद्र अहमदाबाद है। सूरत, भरूच, वडोदरा, भावनगर और राजकोट राज्य के अन्य मुख्य केंद्र हैं।
तमिलनाडु - तिरुनेलवेली, चेन्नई, मदुरै, तिरुचिरापल्ली, सलेम और तंजावुर । प्रमुख केंद्र - कोयंबटूर ।
कर्नाटक - बंगलुरु, मैसूर, बेलगाम और गुलबर्गा ।
उत्तर प्रदेश - कानपुर, इटावा, मोदीनगर, वाराणसी और हाथरस ।
मध्य प्रदेश - इंदौर और ग्वालियर ।
पश्चिम बंगाल - हावड़ा, सेरामपुर और मुर्शिदाबाद ।
Note :- सूती वस्त्र उत्पादन के अन्य प्रमुख राज्य - राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और आंध्र प्रदेश ।

2. सूती वस्त्र उद्योग का कच्चा माल क्या है ?

सूती वस्त्र उद्योग का शुद्ध कच्चा माल कपास होता है

3. भारत में कपड़ा उद्योग कहाँ है ?

भारत की अर्थव्यवस्था में कपड़ा उद्योग का महत्वपूर्ण योगदान है। देश के कुल औद्योगिक उत्पाद का 14% वस्त्र उद्योग के अंतर्गत आता है।

4. राजस्थान की सबसे बड़ी सूती वस्त्र मिल कौन सी है ?

राजस्थान में सबसे बड़ी सूती वस्त्र मिल्स – महाराजा उम्मेद सिंह मिल्स (पाली) है।

5. भारत के सूती वस्त्र की राजधानी है ?

भारत में सूती वस्त्र की राजधानी मुंबई को कहा जाता है।

6. सूती वस्त्र उद्योग की स्थापना कब हुई ?

भारत में सूती वस्त्र उद्योग सूती वस्त्र का प्रथम आधुनिक कारखाना 1818 में फोर्ट ग्लास्टर के द्वारा कोलकाता में लगाया गया था। भारतीय पूंजी से प्रथम सफल कारखाना कवास जी डाबर द्वारा 1854 में मुंबई में लगाया गया था । सूती वस्त्र उद्योग एक शुद्ध कच्चा माल आधारित उद्योग है। जो कपास से निर्मित होता हैं ।

7. सूती वस्त्र उद्योग पर टिप्पणी कीजिए ?

भारत में सूती वस्त्र उद्योग सूती वस्त्र का प्रथम आधुनिक कारखाना 1818 में फोर्ट ग्लास्टर के द्वारा कोलकाता में लगाया गया था। भारतीय पूंजी से प्रथम सफल कारखाना कवास जी डाबर द्वारा 1854 में मुंबई में लगाया गया था । सूती वस्त्र उद्योग एक शुद्ध कच्चा माल आधारित उद्योग है। जो कपास से निर्मित होता हैं ।
सूती वस्त्र उद्योग का सर्वाधिक केन्द्रीकरण महाराष्ट्र एवं गुजरात राज्य में है। अन्य प्रमुख राज्य है-पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, आन्ध्र प्रदेश, केरल, उत्तर प्रदेश ।
मुम्बई को भारत के सूती वस्त्रों की राजधानी के उपनाम से जाना जाता है।
कानपुर को उत्तर भारत का मैनचेस्टर कहा जाता है।
कोयम्बटूर को दक्षिण भारत का मैनचेस्टर कहा जाता है।
अहमदाबाद को भारत का बोस्टन कहा जाता है।
भारतीय अर्थव्यवस्था में कपड़ा उद्योग का स्थान कृषि के बाद दूसरा है।
यह भारत का सबसे प्रचीन उद्योग है।
यह देश का सबसे बड़ा संगठित एवं व्यापक उद्योग है।
यह उद्योग देश में कृषि के बाद रोजगार प्रदान करने वाला दूसरा सबसे बड़ा क्षेत्र है।

8. भारत का सबसे बड़ा वस्त्र उद्योग केंद्र कौनसा हैं ?

राज्य में मुख्य सूती वस्त्र उत्पादन केंद्र कोलकाता, हावड़ा, सीरमपुर, श्यामनगर, सैकिया, मुर्शिदाबाद, हुगली और पनिहार हैं।

Post a Comment

0 Comments