व्यंजन संधि की परिभाषा , नियम , सूत्र , प्रकार / भेद, अपवाद तथा 600+ उदाहरण | PDF Download |

व्यंजन संधि की परिभाषा , नियम , सूत्र , प्रकार / भेद, अपवाद तथा 600+ उदाहरण | PDF Download |

Vyanjan Sandhi ki paribhasha,niyam,sutra,parkar,600+ Examples

व्यञ्जन संधि की परिभाषा :-

जब किसी व्यंजन वर्ण के बाद कोई व्यंजन या स्वर आये अथवा स्वर के बाद व्यंजन आये तो इनके मेल से इन दोनों वर्णों की ध्वनि में हुए विकार को व्यंजन संधि कहते है | व्यंजन संधि को हल् संधि भी कहते हैं
उदाहरण - दिक् + जाल = दिग्जाल उत् + योग = उघोग

व्यंजन संधि के सूत्र :-

(1) व्यंजन + व्यंजन / स्वर = व्यंजन संधि
(2)स्वर + व्यंजन = व्यंजन संधि

व्यंजन संधि के प्रकार / भेद या व्यंजन संधि के नियम :-

व्यंजन संधि के प्रकार / भेद या व्यंजन संधि के नियम निम्नलिखित है -

(1) व्यंजन संधि का नियम -

(1) वर्ग के प्रथम व्यंजन ( अघोष व्यंजन ) का वर्ग का तृतीय व्यंजन ( सघोष ) बनना :-

यदि किसी वर्ग के प्रथम व्यंजन के बाद किसी भी वर्ग का तृतीय या चतुर्थ व्यंजन या कोई स्वर या य् , र् , ल् , व् में से कोई भी वर्ण आकर उससे संधि करे ; तो वह प्रथम वर्ण ( अघोष वर्ण ) अपने ही वर्ग के तृतीय वर्ण ( सघोष वर्ण ) में बदल जाता है |
इसे नीचे दी गई सारणी द्वारा समझाया गया है -

किसी वर्ग का कोई भी प्रथम वर्ण किसी वर्ग का तीसरा या चौथा वर्ण या कोई स्वर या य् , र् , ल् , व् ध्वनि परिवर्तन
क् , च् , ट् , त् , प् ग् , घ् , ज् , झ् , ड् , ढ् , द् , ध् , ब् , भ् या कोई स्वर
अ , आ , इ , ई , ऋ , उ , ऊ , ए, ऐ , ओ , औ अथवा य् , र् , ल् , व्
क् → ग्
च् → ज्
ट् → ड्
त् → द्
प् → ब्

(a) क् का ग्

दिक् + दर्शन = दिग्दर्शन वाक् + जाल = वाग्जाल दिक् + अंत = दिगंत दिक् + गज = दिग्गज वाक् + दान = वाग्दान दिक् + वधू = दिग्वधू प्राक् + ऐतिहासिक = प्रागैतिहासिक दिक् + भ्रमित = दिग्भ्रमित दिक् + वारण = दिग्वारण वाक् + दुष्ट = वाग्दुष्ट वाक् + देवी = वाग्देवी सम्यक् + ज्ञान = सम्यग्ज्ञान दिक् + ज्ञान = दिग्ज्ञान दिक् + हस्ती = दिग्हस्ती वाक् + वज्र = वाग्वज्र वाक् + व्यापार = वाग्व्यापार वाक् + दत्ता = वाग्दत्ता दिक् + दिगंत = दिग्दिगंत वाक् + वितण्ड = वाग्वितण्ड सम्यक् + वाणी = सम्यग्वाणी वाक् + विदग्ध = वाग्विदग्ध दिक् + अम्बर = दिगम्बर वाक् + ईश = वागीश ऋक् + वेद = ऋग्वेद दृक् + अंचल = दृगंचल दिक् + भ्रम = दिग्भ्रम वाक् + धारा = वाग्धारा दिक् + अंतर = दिगंतर दिक् + गयंद = दिग्गयंद दृक् + विकार = दृग्विकार वाक् + ईश्वर = वागीश्वर वाक् + विलास = वाग्विलास सम्यक् + दर्शन = सम्यग्दर्शन दिक् + विजय = दिग्विजय वाक् + दण्ड = वाग्दण्ड वाक् + वैभव = वाग्वैभव वाक् + हरि = वाग्हरि वणिक् + वर्ग = वणिग्वर्ग वाक् + अवयव = वागवयव वाक् + दिग्ध = वाग्दिग्ध दिक् + वारण = दिग्वारण

(b) त् का द्

सत् + विचार = सद्विचार सत् + धर्म = सद्धर्म उत् + घाटन = उद्घाटन जगत् + आत्मा = जगदात्मा जगत् + ईश = जगदीश तत् + रूप = तद्रूप तत् + वत = तद्वत भगवत् + गीता = भगवद्गीता सत् + गुण = सद्गुण जगत् + अम्बा = जगदम्बा तत् + भव = तद्भव सत् + आशय = सदाशय सत् + आचार = सदाचार तत् + अनुसार = तदनुसार सत् + उपयोग = सदुपयोग सत् + गति = सद्गति सत् + आचरण = सदाचरण जगत् + गुरु = जगद्गुरु सत् + उपदेश = सदुपदेश जगत् + आनंद = जगदानंद समुत् + आय = समुदाय महत् + अर्थ = महदर्थ महत् + ज्ञान = महद्ज्ञान वृहत् + आकार = वृहदाकार भगवत् + भक्ति = भगवद्भक्ति कृत् + अन्त = कृदंत सत् + वाणी = सद्वाणी सत् + बुद्धि = सद्बुद्धि सत् + चित् + आनंद = सच्चिदानंद चित् + रूप = चिद्रूप चित् + अणु = चिदणु वृहत् + आरण्यक = वृहदारण्यक चित् + आकाश = चिदाकाश चित् + आकार = चिदाकार महत् + इच्छा = महदिच्छा पोत् + दार = पोद्दार सत् + वाणी = सद्वाणी भविष्यत् + वाणी = भविष्यद्वाणी साक्षात् + धर्म = साक्षाद्धर्म सत् + रूप = सद्रूप पश्चात् + वर्ती = पश्चाद्वर्ती सत् + वेग = सद्वेग सत् + वंश = सद्वंश तत् + उपरांत = तदुपरान्त उत् + अंत = उदंत उत् + दण्ड = उद्दण्ड उत् + योग = उघोग उत् + घोष = उद्घोष उत् + दीप्त = उद्दीप्त उत् + बोधन = उद्बोधन उत् + यान = उघान उत् + विग्न = उद्विग्न उत् + आहरण = उदाहरण महत् + ऐश्वर्य = महदैश्वर्य जगत् + इन्द = जगदिन्द्र महत् + औषध = महदौषध तत् + अनंतर = तदनंतर जगत् + आलोक = जगदालोक सत् + गति = सद्गति जगत् + आचार्य = जगदाचार्य महत् + आकाश = महदाकाश भवत् + ईय = भवदीय भगवत् + भजन = भगवद्भजन भगवत् + विग्रह = भगवद्विग्रह सत् + आत्मा = सदात्मा सत् + भाव = सद्भाव सत् + व्यवहार = सद्व्यवहार श्रीमत् + भागवत = श्रीमद्भागवत सत् + वंश = सद्वंश महत् + अर्थ = महदर्थ वृहत् + आकाश = वृहदाकाश सत् + आनंद = सदानंद जगत् + बंधु = जगद्बंधु सत् + इच्छा = सदिच्छा विघुत् + धारा = विघुद्धारा जयत् + रथ = जयद्रथ सत् + विवेक = सद्विवेक भगवत् + ध्यान = भगवद्ध्यान स्यात् + वाद = स्याद्वाद चित् + विलास = चिद्विलास सत् + वस्तु = सद्वस्तु तत् + अंतर = तदंतर उत् + अय = उदय उत् + अग्र = उदग्र उत् + यम = उघम उत् + गार = उद्गार उत् + देश्य = उद्देश्य उत् + धृत = उद्धृत उत् + भय = उद्भय उत् + वेग = उद्वेग उत् + गम = उद्गम उत् + भव = उद्भव बृहत् + गहन = बृहद्गहन महत् + भय = महद्भय बृहत् + मान = बृहद्मान

(c) च् का ज

अच् + अन्त = अजन्त अच् + आदि = अजादि

(d) ट् का ड्

षट् + आनन = षडानन षट् + रिपु = षड्रिपु षट् + यंत्र = षड्यंत्र षट् + भुजा = षड्भुजा षट् + विकार = षड्विकार षट् + गुण = षड्गुण षट् + रस = षड्रस षट् + अभिज्ञ = षडभिज्ञ षट् + दर्शन = षड्दर्शन षट् + अंग = षडंग षट् + ऋतु = षड्ऋतु षट् + राग = षड्राग षट् + अक्षर = षडक्षर षट् + आकार = षडाकार षट् + योगी = षड्योगी

(e) प् का ब

अप् + ज = अब्ज तिब + अंत = तिबंत तिप् + आदि = तिबादि सुप् + आदि = सुबादि सुप् + अन्त = सुबंत अप् + द = अब्द अप् + जात = अब्जात

(2) व्यंजन संधि का नियम -

(2) घोष व्यंजन ( द् ) का अघोष व्यंजन ( त् ) में परिवर्तन :-

यदि द् के बाद क् , त् , थ् , प् , या स् वर्ण आये तो संधि में घोष वर्ण 'द्' बदलकर 'त्' हो जाता है |

द् + क् / त् / थ् / प् / स् = त्क / त्त / त्थ / त्प / त्स

उदाहरण - तद् + पुरुष = तत्पुरुष उद् + फुल्ल = उत्फुल्ल सद् + संग = सत्संग उद् + पाद = उत्पाद उद् + तर = उत्तर तद् + क्षण = तत्क्षण विपद् + काल = विपत्काल शरद् + काल = शरत्काल उद् + ताप = उत्ताप उद् + थान = उत्थान शरद् + महोत्सव = शरत्महोत्सव उपनिषद् + समीक्षा = उपनिषत्समीक्षा मृद् + प्रतिमा = मृत्प्रतिमा उद् + कोच = उत्कोच मृद् + तिका = मृत्तिका विपद् + ति = विपत्ति आपद् + ति = आपत्ति सम्पद् + ति = संपत्ति तद् + पर = तत्पर मृद + पात्र = मृत्पात्र उद् + सव = उत्सव उद् + साह = उत्साह उद् + तम = उत्तम उद् + तीर्ण = उत्तीर्ण उद् + कट = उत्कट तद् + काल = तत्काल उद् + कृष्ट = उत्कृष्ट उद् + क्षिप्त = उत्क्षिप्त उद् + कीर्ण = उत्कीर्ण सद् + कार = सत्कार संसद् + सत्र = संसत्सत्र संसद् + सदस्य = संसत्सदस्य उपनिषद् + काल = उपनिषत्काल उद् + सर्ग = उत्सर्ग तद् + क्षण = तत्क्षण तद् + सम = तत्सम तद् + परायण = तत्परायण उद् + तेजक = उत्तेजक उद् + पन्न = उत्पन्न

(3) व्यंजन संधि का नियम -

(3) :- यदि किसी वर्ग के पहले वर्ण ( क् , च् , ट् , त् , या प् ) के बाद 'न' या 'म' आते है तो प्रथम वर्ण ( क् , च् , ट् , त् , प् ) के स्थान पर उसी वर्ग का पांचवा वर्ण ( ङ् , ञ् , ण् , न् , म् ) हो जाता है |

किसी वर्ग का प्रथम वर्ण + न या म = प्रथम वर्ण के स्थान पर उसी वर्ग का पांचवा वर्ण

( क् / च् / ट् / त् / प् ) + न / म = ( ङ् / ञ् / ण् / न् म् )

उदाहरण -

(a) क् + न / म = क् का ङ्

वाक् + मय = वाङ्मय वाक् + निपुण = वाङ्निपुण दिक् + मण्डल = दिङ्मण्डल दिक् + मूढ़ = दिङ्मूढ़ दिक् + मय = दिङ्मय पराक् + मुख = पराङ्मुख दिक् + नाग = दिङ्नाग दिक् + नाथ = दिङ्नाथ प्राक् + मुख = प्राङ्मुख दिक् + मुख = दिङ्मुख वाक् + मूर्ति = वाङ्मूर्ति ऋक् + मंत्र = ऋङ्मंत्र

(b) ट् + न / म = ट् का ण्

षट् + मुख = षण्मुख षट् + मास = षण्मास षट् + मातुर = षण्मातुर षट् + मूर्ति = षण्मूर्ति षट् + मासिक = षण्मासिक षट् + नाम = षण्णाम

(c) त् + न / म = त् का न्

उत् + मत्त = उन्मत्त तत् + नाम = तन्नाम सत् + मार्ग = सन्मार्ग उत् + मुख = उन्मुख श्रीमत् + नारायण = श्रीमन्नारायण उत् + मूलन = उन्मूलन भवत् + निष्ठ = भवन्निष्ठ सत् + नारी = सन्नारी उत् + माद = उन्माद सत् + नियम = सन्नियम उत् + मेष = उन्मेष उत् + नयन = उन्नयन चित् + मय = चिन्मय सत् + मति = सन्मति उत् + नायक = उन्नायक उत् + मोचन = उन्मोचन सत् + मान = सन्मान तत् + मय = तन्मय उत् + नत = उन्नत वृहत् + माला = वृहन्माला उत् + नति = उन्नति भवत् + निष्ठ = भवन्निष्ठ वृहत् + नेत्र = वृहन्नेत्र सत् + मित्र = सन्मित्र सत् + निधि = सन्निधि जगत् + मोहिनी = जगन्मोहिनी जगत् + नाथ = जगन्नाथ उत् + मार्ग = उन्मार्ग जगत् + नायक = जगन्नायक हनुमत् + नाम = हनुमन्नाम उत् + मुक्त = उन्मुक्त विद्वत् + मंडली = विद्वन्मंडली विघुत् + माला = विघुन्माला वृहत् + नल = वृहन्नल पत् + नग = पन्नग सत् + निधान = सन्निधान तत् + नाम = तन्नाम जगत् + निवास = जगन्निवास जगत् + माता = जगन्माता जगत् + मिथ्या = जगन्मिथ्या जगत् + नियम = जगन्नियम विघुत् + मण्डल = विघुन्मण्डल उत् + निद्र = उन्निद्र

(d) प् + न / म = प् का म्

अप् + मय = अम्मय

(4) व्यंजन संधि का नियम -

(4) त् / द् का वर्ण परिवर्तन :-

त् / द् के बाद च / छ / ज / ट / ड / ल / ह / श वर्ण आने पर त् / द् क्रमशः च् , छ् , ज् , ट् , ड् , ल् , द्ध या च्छ् में बदल जाता है |

त् / द् + च / छ / ज / ट / ड / ल / ह / श = त् / द् का च् , छ् , ज् , ट् , ड् , ल् , द्ध या च्छ् में बदलना

उदाहरण -

(a) त् / द् + च / छ = च्च / च्छ

सत् + चरित्र = सच्चरित्र जगत् + चिंतन = जगच्चिंतन उत् + चारण = उच्चारण भागवत् + चरण = भागवच्चरण भगवत् + चिंतन = भगवच्चिंतन वृहत् + चयन = वृहच्चयन उत् + छादन = उच्छादन जगत् + छाया = जगच्छाया उत् + छिन्न = उच्छिन्न उत् + चरित = उच्चरित विघुत् + चालक = विघुच्चालक शरत् + चन्द्र = शरच्चन्द्र सत् + चित = सच्चित सत् + चिदानन्द = सच्चिदानंद उत् + चाटन = उच्चाटन उत् + छेद = उच्छेद विघुत् + छटा = विघुच्छटा सम् + उत् + चय = समुच्चय

(b) त् / द् + ज् = ज्ज

उत् + ज्वल = उज्ज्वल जगत् + जननी = जगज्जननी तत् + जन्य = तज्जन्य बृहत् + ज्योति = बृहज्ज्योति भगवत् + ज्योति = भगवज्ज्योति विपद् + ज्वाला = विपज्ज्वाला विद्वत् + जीवन = विद्वज्जीवन तत् + जनित = तज्जनित उत् + जयिनी = उज्जयिनी तडित् + ज्योति = तडिज्ज्योति जगत् + जीवन = जगज्जीवन बृहत् + जन = बृहज्जन यावत् + जीवन = यावज्जीवन विपद् + जाल = विपज्जाल सत् + जन = सज्जन वृहत् + झंकार = वृहज्झंकार

(c) त् / द् + ट् = ट्ट / ट्ठ

तत् + टीका = तट्टीका मृद् + टीका = मृट्टीका वृहत् + टीका = वृहट्टीका एतद् + ठक्कर = एतट्ठक्कर

(d) त् + ड = ड्ड

उत् + डयन = उड्डयन उत् + डोन = उड्डोन भवत् + डमरू = भवड्डमरू तद् + डिंडिम = तड्डिंडिम

(e) त् / द् + ल = ल्ल

उत् + लंघन = उल्लंघन उत् + लिखित = उल्लिखित तत् + लय = तल्लय तडित् + लेखा = तड़िल्लेखा मत् + लय = मल्लय शरद् + लास = शरल्लास भगवत् + लीन = भगवल्लीन उत् + लास = उल्लास उत् + लेख = उल्लेख तत् + लीन = तल्लीन पत् + लव = पल्लव विपद् + लीन = विपल्लीन बृहत् + ललाट = बृहल्लाट

(f) त् / द् + श् = च्छ

उत् + श्वास = उच्छ्वास शरद् + शवि = शरच्छवि सत् + शास्त्र = सच्छास्त्र तद् + श्रुत्वा = तच्छ्रुत्वा उत् + शासन = उच्छासन उत् + श्वसन = उच्छ्वसन सत् + शासन = सच्छासन तद् / तत् + शिव = तच्छिव उत् + शिष्ट = उच्छिष्ट मृद् + शकटिक = मृच्छकटिक तत् + शंकर = तच्छन्कर श्रीमत् + शरत् + चन्द्र = श्रीमच्छरच्चन्द्र उत् + शास्त्र = उच्छास्त्र शरत् + शशि = शरच्छशि

(g) त् / द् + ह = द्ध

उत् + हार = उद्धार उत् + हरण = उद्धरण पद् + हरि = पद्धरि उत् + हृत = उद्धृत तत् + हित = तद्धित उत् + हत = उद्धत पद् + हति = पद्धति

(h) द् + म् / न् = न्म / न्न

तद् + नीर = तन्नीर एतद् + मात्र = एतन्मात्र तद् + मय = तन्मय

(i) क् + ह = ग्घ

वाक् + हरि = वाग्घरि वाक् + हंता = वाग्घंता

(5) व्यंजन संधि का नियम -

(5) च्छ में बदलना :-

अ / आ / इ / ई / उ / ऊ / ऋ के बाद 'छ' आने पर संधि होकर 'च्छ' बन जाता है |

अ / आ / इ / ई / उ / ऊ / ऋ + छ = 'च्छ'

उदाहरण - अनु + छेद = अनुच्छेद आ + छादित = आच्छादित तरु + छाया = तरुच्छाया प्रति + छाया = प्रतिच्छाया परि + छेद = परिच्छेद मुख + छवि = मुखच्छवि वि + छेद = विच्छेद वि + छिन्न = विच्छिन्न स्व + छन्द = स्वच्छन्द शाला + छादन = शालाच्छादन आ + छादन = आच्छादन छत्र + छाया = छत्रच्छाया प्र + छन्न = प्रच्छन्न प्रति + छवि = प्रतिच्छवि मातृ + छाया = मातृच्छाया लक्ष्मी + छाया = लक्ष्मीच्छाया वृक्ष + छाया = वृक्षच्छाया शिव + छाया = शिवच्छाया एक + छत्र = एकच्छत्र

(6) व्यंजन संधि का नियम -

(6) अनुस्वार ( ं ) में बदलना :-

म् के बाद क् से म् तक का कोई भी व्यंजन आने पर हुई संधि में म् के बाद वाले वर्ण के वर्ग का पंचम वर्ण ( ङ् / ञ् / ण् / न् म् ) बन जाता है या अनुस्वार ( ं ) में बदल जाता है |

म् + क से म तक कोई भी स्पर्श व्यंजन = म् के स्थान पर उसी वर्ग का पंचम वर्ण अथवा अनुस्वार ( ं )

उदाहरण -

(a) म् + क् वर्ग = म् → ङ् या ( ं )

( म् + क् / ख / ग / घ / ङ = ङ् + व्यंजन / अनुस्वार + व्यंजन ) सम् + कल्प = संकल्प अम् + क = अंक सम् + गठन = संगठन सम् + क्रांति = संक्रान्ति दिवम् + गत = दिवंगत अलम् + कार = अलंकार अलम् + कृति = अलङ्कृति अलम् + कृत = अलङ्कृत सम् + घटन = संघटन अलम् + करण = अलङ्करण दीपम् + कर = दीपङ्कर सम् + कट = सङ्कट ( संकट ) सम् + कोच = सङ्कोच ( संकोच ) पारम् + गत = पारंगत सम् + ग्राम = सङ्ग्राम ( संग्राम ) सम् + कीर्ण = सङ्कीर्ण ( संकीर्ण ) सम् + घर्ष = सङ्घर्ष ( संघर्ष ) सम् + क्षेप = संक्षेप हृदयम् + गम = हृदयंगम किम् + कर = किंकर / किङ्कर सम् + गति = संगति शुभम् + कर = शुभंकर तीर्थम् + कर = तीर्थंकर सम् + कर = संकर सम् + कलन = संकलन सम् + घनन = संघनन अहम् + कार = अहङ्कार ( अंहकार ) भयम् + कर = भयङ्कर ( भयंकर ) सम् + कीर्तन = सङ्कीर्तन ( संकीर्तन ) सम् + गीत = सङ्गीत ( संगीत ) सम् + ग्रह = सङ्ग्रह ( संग्रह ) सम् + क्रमण = सङ्क्रमण ( संक्रमण ) सम् + गम् = सङ्गम ( संगम ) सम् + घात् = सङ्घात ( संघात )

(b) म् + च् वर्ग = म् → ञ् या ( ं )

म् + च वर्ग का कोई व्यंजन = ञ् + व्यंजन / अनुस्वार + व्यंजन सम् + जीवनी = संजीवनी अकिम् + चन = अकिञ्चन ( अकिंचन ) सम् + चय = सञ्चय ( संचय ) धनम् + जय = धनञ्जय / धनंजय चम् + चल = चञ्चल / चंचल अम् + जन = अञ्जन / अंजन चिरम् + जीवी = चिरञ्जीवी ( चिरंजीवी ) सम् + चालन = सञ्चालन ( संचालन ) सम् + जय = सञ्जय ( संजय ) सम् + ज्ञा = संज्ञा सम् + चित = सञ्चित / संचित किम् + चित = किंचित सम् + चार = सञ्चार ( संचार ) चिरम् + जीव = चिरञ्जीव ( चिरंजीव ) पम् + चम = पंचम

(c) म् + ट् वर्ग = म् → ण् या ( ं )

म् + ट वर्ग का कोई व्यंजन = ण् + व्यंजन / अनुस्वार + व्यंजन अम् + ड = अण्ड / अंड खम् + ड = खण्ड / खंड दम् + ड = दण्ड / दंड

(d) म् + त् वर्ग = म् → न् या ( ं )

म् + त वर्ग का कोई व्यंजन = न् + व्यंजन / अनुस्वार + व्यंजन सम् + तति = संतति सम् + तोष = संतोष सम् + देश = संदेश / सन्देश किम् + तु = किन्तु / किंतु सम् + देह = संदेह / सन्देह सम् + दिग्ध = संदिग्ध सम् + न्यासी = संन्यासी / सन्नयासी सम् + ताप = संताप/ सन्ताप सम् + तुलन = संतुलन / सन्तुलन धुरम् + धर = धुरंधर / धुरन्धर किम् + नर = किन्नर सम् + निहित = सन्निहित सम् + निवेश = सन्निवेश सम् + ध्या = संध्या / सन्ध्या सम् + धि = संधि / सन्धि परम् + तु = परन्तु / परंतु वसुम् + धरा = वसुंधरा / वसुन्धरा सम् + तुष्ट = संतुष्ट / सन्तुष्ट सम् + निकट = सन्निकट चिरम् + तन = चिरन्तन / चिरंतन सम् + त्रास = सन्त्रास / संत्रास सम् + द्रवण = सन्द्रवण सम् + धान = सन्धान ( संधान ) सम् + न्यास = संन्यास / सन्न्यास सम् + नद्ध = सन्नद्ध

(e) म् + प् वर्ग = म् → म् या ( ं )

म् + प वर्ग का कोई व्यंजन = म् + व्यंजन / अनुस्वार + व्यंजन सम् + भव = संभव / सम्भव सम् + बन्ध = संबंध / सम्बन्ध सम् + पादक = सम्पादक ( संपादक ) सम् + प्रदाय = सम्प्रदाय ( संप्रदाय ) सम् + बोधन = सम्बोधन ( संबोधन ) अवश्यम् + भावी = अवश्यम्भावी / अवश्यंभावी सम् + भावना = सम्भावना ( संभावना ) विश्वम् + भर = विश्वम्भर / विश्वंभर स्वयम् + भू = स्वयम्भू / स्वयंभू सम् + भावित = सम्भावित / संभावित सम् + पार्श्व = सम्पार्श्व / संपार्श्व सम् + प्राप्ति = सम्प्राप्ति / संप्राप्ति सम् + पर्क = सम्पर्क / संपर्क सम् + परिवर्तन = संपरिवर्तन सम् + पूर्ण = सम्पूर्ण / संपूर्ण सम् + भाषण = संभाषण सम् + प्रदान = सम्प्रदान / संप्रदान सम् + प्रेषण = सम्प्रेषण / संप्रेषण सम् + बद्ध = सम्बद्ध / संबद्ध सम् + भोग = सम्भोग / संभोग ऋतम् + भरा = ऋतम्भरा / ऋतंभरा सम् + पूरित = सम्पूरित सम् + पन्न = सम्पन्न / संपन्न सम् + प्रति = सम्प्रति सम् + बंध = सम्बन्ध / संबंध सम् + पादन = सम्पादन / संपादन सम् + प्रभु = संप्रभु

(7) व्यंजन संधि का नियम -

(7) म्म में बदलना :-

म् के बाद 'म' आने पर 'म्म' हो जाता है |

म् + म = म्म

उदाहरण - सम् + मति = सम्मति सम् + मिश्रण = सम्मिश्रण सम् + मिलित = सम्मिलित सम् + मान = सम्मान सम् + मेलन = सम्मेलन सम् + मोहन = सम्मोहन सम् + मानित = सम्मानित सम् + मुख = सम्मुख सम् + मत = सम्मत

(8) व्यंजन संधि का नियम -

(8) म् के स्थान पर अनुस्वार :-

म् के बाद ऊष्म व्यंजन ( श् , ष् , स् , ह् ) या अन्तस्थ व्यंजन ( य् , र् , ल् , व् ) या संयुक्त व्यंजन ( क्ष , त्र , ज्ञ ) आने पर 'म्' का अनुस्वार बन जाता है |

म् + य् , र् , ल् , व् , श् , ष् , स् , ह् , क्ष , त्र , ज्ञ = म् के स्थान पर अनुस्वार ( ं )

उदाहरण - सम् + योग = संयोग सम् + लाप = संलाप सम् + यम = संयम सम् + शोधन = संशोधन सम् + रक्षा = संरक्षा सम् + सार = संसार सम् + रक्षक = संरक्षक सम् + युक्त्त = संयुक्त्त सम् + स्मरण = संस्मरण स्वयम् + वर = स्वयंवर सम् + हिता = संहिता सम् + सर्ग = संसर्ग सम् + सृति = संसृति सम् + क्षेप = संक्षेप सम् + त्राण = संत्राण सम् + ज्ञान = संज्ञान सम् + वेदना = संवेदना सम् + वाहक = संवाहक सम् + स्थान = संस्थान सम् + क्षेपण = संक्षेपण सम् + रचना = संरचना सम् + योग = संयोग सम् + वाद = संवाद सम् + हार = संहार सम् + लग्न = संलग्न सम् + रक्षण = संरक्षण सम् + शय = संशय किम् + वा = किंवा सम् + विधान = संविधान किम् + वदंती = किंवदन्ती सम् + वर्धन = संवर्धन प्रियम् + वदा = प्रियंवदा पुम् + लिंग = पुंल्लिंग सम् + क्षिप्त = संक्षिप्त सम् + लाप = संलाप सम् + वेग = संवेग सम् + श्लेषण = संश्लेषण सम् + स्तुति = संस्तुति सम् + वत् = संवत् सम् + योजन = संयोजन

(9) व्यंजन संधि का नियम -

(9) 'न' का 'ण्' में परिवर्तन :-

निम्न दो परिस्थितियों में 'न' वर्ण 'ण्' वर्ण में परिवर्तित हो जाता है |

(a) यदि 'ष्' के बाद 'न्' व्यंजन आये तो 'न्' व्यंजन के स्थान पर 'ण्' हो जाता है |

ष् + न = न → ण
उदाहरण -
पोष् + अन = पोषण कृष्ष् + न = कृष्ण विष् + नु = विष्णु वर्ष + अन = वर्षण पोष् + अन = पोषण दूष् + अन = दूषण उष् + न = उष्ण तृष् + ना = तृष्णा भूष् + अन = भूषण शोष् + अन = शोषण चूष् + अन = चूषण

(b) यदि 'न' वर्ण के पहले या बाद में या थोडा दूर भी मूर्धन्य वर्ण ( ध्वनि ) जैसे ऋ, य् , र् आदि वर्ण आयें तो 'न' बदलकर 'ण' हो जाता है |

न + पहले या बाद में ऋ , य , र = न → ण
उदाहरण -
भर + न = भरण नार + अयन = नारायण ऋ + न = ऋण मर + न = मरण पुरा + न = पुराण हर + न = हरण तृ + न = तृण प्र + नेता = प्रणेता प्र + आन = प्राण प्र + अंगन = प्रांगण परि + नय = परिणय परि + नति = परिणति शूर्प + नखा = शूर्पणखा पर + अयन = परायण प्रसार + न = प्रसारण मृत् + मय = मृण्मय राम + अयन = रामायण परि + मान = परिमाण परि + नाम = परिणाम प्र + यान = प्रयाण तर + न = तरण परि + नत = परिणत प्र + न = प्रण प्र + नीत = प्रणीत प्र + मान = प्रमाण पूर् + न = पूर्ण शिक्ष् + अन = शिक्षण व्र + न = व्रण निर् + नय = निर्णय उत्तर + अयन = उत्तरायण क्रीड़ा + अंगन = क्रीड़ागण

(10) व्यंजन संधि का नियम -

(10) स का ष में परिवर्तन :-

यदि 'अ' तथा 'आ' को छोडकर किसी अन्य स्वर के बाद 'स' आता है तो संधि होने पर 'स' बदलकर 'ष' हो जाता है |

अ व आ के अलावा कोई भिन्न स्वर + स = स के स्थान पर ष
इ / ई / उ / ऊ / ऋ / ए/ ऐ / ओ / औ + स = स → ष

उदाहरण - वि + सम = विषम नि + सिद्ध = निषिद्ध अभि + सेक = अभिषेक परि + सद् = परिषद् नि + स्नात = निष्णात नि + साद = निषाद वि + साद = विषाद सु + सुप्त = सुषुप्त सु + स्मिता = सुष्मिता नि + स्थुर = निष्ठुर विशे + स = विशेष नि + सेध = निषेध अभि + सिक्त = अभिषिक्त सु + सुप्ति = सुषुप्ति उपनि + सद् = उपनिषद् अभि + सेचन = अभिषेचन प्रति + सेध = प्रतिषेध अनु + संगी = अनुषंगी सु + समा = सुषमा नि + संग = निषंग युधि + स्थिर = युधिष्ठिर अनु + संग = अनुषंग

(11) व्यंजन संधि का नियम -

(11) ष्ट या ष्ठ में परिवर्तन :-

'ष' ( मूर्धन्य व्यंजन ) के बाद दंत्य व्यंजन 'त'या 'थ' आने पर 'त' एवं 'थ' के स्थान पर क्रमशः 'ट्' या 'ठ्' हो जाता है |

ष् + त / थ = ष्ट / ष्ठ

उदाहरण -

(a) ष् + त = ष्ट

आकृष् + त = आकृष्ट सृष् + ति = सृष्टि इष् + त = इष्ट निकृष् + त = निकृष्ट पुष् + ति = पुष्टि हृष् + त = हृष्ट तुष् + त = तुष्ट उत्कृष् + त = उत्कृष्ट नष् + त = नष्ट पुष् + त = पुष्ट कष् + त = कष्ट षष् + ति = षष्टि

(b) ष् + थ = ष्ठ

षष् + थ = षष्ठ पृष् + थ = पृष्ठ अनुष् + थान = अनुष्ठान निष् + था = निष्ठा

(12) व्यंजन संधि का नियम -

(12) ण् में परिवर्तन :-

यदि 'ऋ' स्वर के बाद 'त्' 'द्' वर्ण हो तथा उसके बाद 'म' वर्ण आता हो तो 'त्' 'द्' वर्ण बदलकर 'ण्' हो जाता है |

ऋ + त् / द् + म = ण्म

उदाहरण - मृत् + मय = मृण्मय मृद् + मूर्ति = मृण्मूर्ति

(13) व्यंजन संधि का नियम -

(13) 'स्' व्यंजन का जुड़ना :-

यदि 'सम्' उपसर्ग के बाद 'क' से प्रारंभ होने वाले शब्द यथा कृति , कृत , करण , कार , कर्त्ता आदि आयें तो 'म्' का अनुस्वार हो जाता है तथा 'स्' व्यंजन जुड़ जाता है |

सम् + कृत / कृति / करण / कार / कर्त्ता आदि = म् का अनुस्वार एवं स् का आगम

उदाहरण - सम् + कृत = संस्कृत सम् + करण = संस्करण सम् + कारक = संकारक सम् + कृति = संस्कृति सम् + कार = संस्कार सम् + कर्त्ता = संस्कर्त्ता

(14) व्यंजन संधि का नियम -

(14) ष् वर्ण का जुड़ना :-

यदि 'परि' उपसर्ग के बाद " कृत , कार , कृति , करण , कारक " आदि शब्द आयें तो संधि होने पर परि के बाद 'ष्' वर्ण जुड़ जाता है |

परि + कृत / कार / कृति / करण / कारक आदि = संधि में परि के बाद ष् का आगम

उदाहरण - परि + कार = परिष्कार परि + कृत = परिष्कृत परि + कारक = परिष्कारक परि + करण = परिष्करण परि + कृति = परिष्कृति

(15) व्यंजन संधि का नियम -

(15) च् वर्ण का जुड़ना :-

यदि प्रथम शब्द का अंतिम वर्ण 'स्वर' हो एवं दूसरा शब्द 'छ' से प्रारम्भ होता हो तो दोनों की संधि होने पर बीच में 'च्' वर्ण जुड़ जाता है |

कोई स्वर + छ = च्छ

उदाहरण - अंग + छद = अंगच्छद आ + छन्न = आच्छन्न छत्र + छाया = छत्रच्छाया तंद + छद = तंदच्छद प्र + छन्न = प्रच्छन्न परि + छेद = परिच्छेद वि + छिन्न = विच्छिन्न वृक्ष + छाया = वृक्षच्छाया अनु + छेद = अनुच्छेद अप + छाया = अपच्छाया एक + छत्र = एकच्छत्र तरु + छाया = तरुच्छाया प्रति + छवि = प्रतिच्छवि परि + छेद = परिच्छेद वि + छेद = विच्छेद आ + छादन = आच्छादन स्व + छन्द = स्वच्छन्द शाला + छादन = शालाच्छादन

व्यंजन संधि के अपवाद उदाहरण सहित :-

(a) व्यंजन संधि के नियम - (1) के अपवाद

त् + ड / ढ = ड् ( द् नहीं )
त् + ज / झ = ज् ( द् नहीं )
त् + ल = ल् ( द् नहीं )

उदाहरण - उत् + डयन = उड्डयन सत् + जन = सज्जन तत् + जन्य = तज्जन्य उत् + ज्वल = उज्ज्वल विपद् + जाल = विपज्जाल उत् + लंघन = उल्लंघन उत् + लेख = उल्लेख उत् + लास = उल्लास तत् + लीन = तल्लीन जगत् + जननी = जगज्जननी

(b) व्यंजन संधि के नियम - (10) के अपवाद

उदाहरण - अनु + सरण = अनुसरण अनु + स्वार = अनुस्वार वि + सर्जन = विसर्जन वि + स्मरण = विस्मरण अनु + सार = अनुसार वि + सर्ग = विसर्ग

व्यंजन संधि की परिभाषा , नियम , सूत्र , प्रकार / भेद, अपवाद तथा 600+ उदाहरण PDF Download

पीडीएफ को देखें और दोस्तों को शेयर करे


Download PDF

✹ More PDF Download :-

  1. संधि - परिभाषा,भेद एवं उदाहरण
  2. समास की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण
  3. रस/रस के प्रकार - उदाहरण सहित
  4. कारक की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण
  5. क्रिया की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण
  6. विशेषण की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण
  7. वचन की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण
  8. सर्वनाम की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण
  9. उपसर्ग - परिभाषा,भेद एवं उदाहरण
  10. संधि विच्छेद की परिभाषा एवं उनके उदाहरण
  11. प्रमुख लोकोक्तियाँ ( कहावतें ) एवं उनके अर्थ
  12. पर्यायवाची शब्द एवं उनके उदाहरण
  13. मुहावरे का अर्थ एवं वाक्य में प्रयोग
  14. अनेकार्थक शब्द
  15. वाक्यांश के लिए एक शब्द
  16. अशुद्ध - शुद्ध शब्द
  17. हिंदी भाषा
  18. शब्द - भेद Question and Answer
  19. संधि Question and Answer
  20. समास Question and Answer
  21. उपसर्ग - प्रत्यय Question and Answer
  22. विलोम शब्द
  23. वाच्य

Exam Solved Paper की Free PDF यहां से Download करें

सभी बिषयवार Free PDF यहां से Download करें

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Promoted Posts