कारक की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण

 कारक की परिभाषा, भेद  एवं उनके उदाहरण

✹ कारक की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण का अध्धयन ( karak ki paribhasha bhed evm unke udaharan ka adhdhyan ) :-

कारक की परिभाषा :-

"संज्ञा या सर्वनाम के जिस रुप से वाक्य में प्रयुक्त अन्य शब्दों के साथ उसका संबंध ज्ञात होता है , उसे कारक कहते हैं । " दूसरे शब्दों में कहा जा सकता है कि , वाक्य में प्रयुक्त "संज्ञा" या "सर्वनाम" शब्दों का उस वाक्य की क्रिया से जो संबंध पाया जाता है, उसे कारक कहते हैं ,
उदाहरण :- राम ने रावण को मारा । मोहन कुर्सी पर बैठा है ।
उपयुक्त वाक्यों में क्रमशः को , पर शब्द कारक है ।

कारक के भेद

कारक आठ प्रकार के होते हैं । इन कारकों को विभक्ति भी कहते हैं । प्रत्येक कारक का चिन्ह निर्धारित है । कारक के चिन्हो को विभक्ति चिन्ह भी कहते हैं ।

कारक , चिन्ह एवं विभक्ति की तालिका :-

कारक चिन्ह विभक्ति
कर्ता ने प्रथमा
कर्म को द्वितीय
करण से , के द्वारा तृतीया
संप्रदान के लिए , को चतुर्थी
अपादान से ( अलग होना ) पंचमी
संबंध का , की , के , रा , री , रे षष्ठी
अधिकरण मैं , पर सप्तमी
संबोधन हे ! रे ! अरे ! ओ !

1. कर्ता कारक : ( चिन्ह : " ने " ) : -

संज्ञा या सर्वनाम के जिस रुप से क्रिया के करने वाले का बोध होता है उसे कर्ता कहते हैं ,
उदाहरण :- राम ने पत्र लिखा ।
इस वाक्य में "लिखा" क्रिया है । प्रश्न उठता है कि पत्र लिखने की क्रिया किसने की ? तो उत्तर मिलता है कि "राम ने" ।
" राम" "लिखा" क्रिया को करने वाला ( कर्ता ) है ।
इसी प्रकार -
1. सिपाही ने चोर को पकड़ा ।
2. राम ने रावण को मारा ।
3. बिल्ली ने चूहा पकड़ लिया ।
4. मोहन ने पुस्तक पढ़ी ।


2. कर्म कारक : ( चिन्ह : "को" ) : -

वाक्य में प्रयुक्त शब्द पर कर्ता द्वारा किए जाने वाले कार्य का फल पड़ता है , उसे "कर्म कारक" कहते हैं ,
उदाहरण :- - राम ने रावण को मारा ।
इस वाक्य में "राम" कर्ता द्वारा किए गए कार्य ( मारना ) का फल "रावण" पर पड़ रहा है । अत: "रावण को" यहां कर्म कारक है ।
इसी प्रकार -
1. रमेश ने मोहन को पत्र लिखा ।
2. पिताजी पुस्तक ले आए ।
3. राजू बाजार गया है ।
4. राम पुस्तक लिखता है ।


3. करण कारक : ( चिन्ह : "से" ) : -

वाक्य में प्रयुक्त कर्ता जिसकी सहायता से क्रिया करता है , उसे करण कारक कहते हैं
उदाहरण :- राम ने कलम से पत्र लिखा ।
किसकी सहायता से पत्र लिखा ? उत्तर मिला - "कलम" की सहायता से । अर्थात यहां "कलम" लिखने का साधन है अतः "कलम" करण कारक है
इसी प्रकार -
1. सीता चाकू से फल काटती है ।
2. मोहन लाठी से कुत्ते को मार रहा है ।
3. राजेश गेंद से खेल रहा है ।


4. संप्रदान कारक : ( चिन्ह : "को , के लिए" ) : -

वाक्य में प्रयुक्त कर्ता जिसके लिए कोई क्रिया करें , उसे संप्रदान कारक कहते हैं
उदाहरण :- चिड़िया बच्चों के लिए दाना लाती है ।
यहां चिड़िया (कर्ता) दाना लाने की क्रिया कर रही है । किसके लिए यह क्रिया की जा रही है ? उत्तर मिला - "बच्चों के लिए" ।
अतः "बच्चों के लिए" संप्रदान कारक है
इसी प्रकार -
1. राजेश मोहन के लिए आम लाया है ।
2. राजू पूजा के लिए पुष्प लाया है ।
3. सीता रेनू के लिए चाय लायी है ।
4. रमेश खिलाड़ी के लिए पानी लाया ।


5. अपादान कारक - { चिन्ह - से (अलग होना) } : -

जिससे किसी वस्तु का अलग होना गया ज्ञात हो , उसे अपादान कारक कहते हैं ,
उदाहरण :- राम पेड़ से गिर पड़ा ।
यहां "राम" गिर पड़ा । कहां से गिर पड़ा ? उत्तर मिला - "पेड़ से" ।
अतः "पेड़ से" अपादान कारक है ।
इसी प्रकार -
1. पत्ते पेड़ से गिर रहे हैं ।
2. राजू बस से कूद पड़ा ।
3. चिड़िया पिंजरे से उड़ गई ।
4. छात्र विद्यालय से चले गए ।


6. संबंध कारक : [ चिन्ह : "का की के रा री रे" ] : -

संज्ञा या सर्वनाम के उस रूप को जिससे उसके किसी व्यक्ति या वस्तु के साथ संबंध का बोध होता है , संबंध कारक कहलाता है ,
उदाहरण :- राम का भाई आ रहा है ।
यहां आने वाला व्यक्ति का संबंध "राम" से प्रकट हो रहा है अतः यहां "राम का" "संबंध कारक" है
इसी प्रकार -
1. यह तुम्हारा घर है ।
2. ये फल तुम्हारे हैं ।
3. मोहन की बहन आ रही है ।
4. यह पुस्तक मोहन की है ।


7. अधिकरण कारक : ( चिन्ह : "में , पर" ) : -

जिन शब्दों से क्रिया के आधार का बोध होता है , वें अधिकरण कारक होते हैं ,
उदाहरण :- मां कुर्सी पर बैठी है । बच्चा पालने में झूल रहा है ।
"मां" कहां बैठी है ? उत्तर मिला - कुर्सी पर । यहां पर "कुर्सी" बैठने की क्रिया का आधार है । इसी प्रकार दूसरे वाक्य में - बच्चा कहां झूल रहा है ? उत्तर मिला - पालने में । "पालना" झूलने की क्रिया का आधार है । अतः "कुर्सी पर" एवं "पालने में" अधिकरण कारक है ।
इसी प्रकार -
1. बिल्ली चटाई पर बैठी है ।
2. पुस्तकें अलमारी में रखी है ।
3. पेड़ पर बंदर बैठा है ।
4. कमरे में पंखा चल रहा है ।


8. संबोधन कारक : ( चिन्ह - "हे ! रे ! अरे ! ओ !" ) : -

वाक्य में संज्ञा के जिस रुप से बुलाने पुकारने या सावधान करने का बोध होता है , उसे संबोधन कारक कहते हैं ।
उदाहरण :- : अरे मोहन ! यहां आओ ।
यहां "मोहन" संज्ञा शब्द के इस रूप से पुकारने का बोध हो रहा है । अतः यहां "अरे मोहन" "संबोधन कारक" है
इसी प्रकार -
1. बालको ! कहां जा रहे हो ?
2. ओ भाई ! मेरी बात सुनो ।
3. राजेश ! तुम शीघ्र भाग जाओ ।
4. हे राम ! मेरी पुकार सुनो ।
उपयुक्त वाक्य में मोटे छपे शब्द संबोधन कारक है ।


परीक्षा उपयोगी महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर : -

1. " राजू ने लाठी से सांप मार दिया । " इस वाक्य में "लाठी से" है ?
कर्म कारक
करण कारक ✓
अपादान कारक
संबंध कारक

2. "छात्र पुस्तक पढ़ रहे हैं ।" वाक्य में "पुस्तक" है ?
कर्म कारक✓
करण कारक
अपादान कारक
संप्रदान कारक

3. "श्याम ने भोजन कर लिया ।" वाक्य में श्याम है ?
कर्म कारक
करण कारक
कर्ता कारक ✓
संबंध कारक

4. "राकेश घोड़े से गिरता है" वाक्य में "घोड़े से" है ?
करण कारक
संप्रदान कारक
अपादान कारक✓
संबंध कारक

5. "देवकीनंदन , महेश को भोजन लाया ।" वाक्य में "महेश को" है ?
करण कारक
संप्रदान कारक ✓
अपादान कारक
संबंध कारक

6. "वह पुरुषों में श्रेष्ठ है ।" इस वाक्य में "में" किस कारक का चिन्ह है ?
संबंध कारक
करण कारक
अधिकरण कारक ✓
कर्म कारक

Download PDF



✻ इन्हें भी पढ़े :-

रस/रस के प्रकार - उदाहरण सहित
विशेषण की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण
सर्वनाम की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण
क्रिया की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण
वाक्यांश के लिए एक शब्द
अनेकार्थक शब्द
पर्यायवाची शब्द एवं उनके उदाहरण
कारक की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

Promoted Posts