सर्वनाम की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण

सर्वनाम की परिभाषा, भेद  एवं उनके उदाहरण

( srvnaam ki paribhasha bhed evm unke udaharan ka adhdhyan ) ✹ सर्वनाम की परिभाषा, भेद एवं उनके उदाहरण का अध्धयन :-

सर्वनाम की परिभाषा :-

वाक्य में संज्ञा के स्थान पर जिन शब्दों का प्रयोग किया जाता है , उन्हें सर्वनाम कहते हैं ।
दूसरे शब्दों में कहा जा सकता है कि " सर्वनाम उस विकारी शब्द को कहते हैं जो पूर्वापर संबंध से किसी भी संज्ञा के बदले में आता है ।"

सर्वनाम के भेद :-

सर्वनाम के 6 भेद होते हैं -
1. पुरुषवाचक सर्वनाम
2. निजवाचक सर्वनाम
3. निश्चयवाचक सर्वनाम
4. संबंध वाचक सर्वनाम
5. प्रश्नवाचक सर्वनाम
6. अनिश्चयवाचक सर्वनाम


1. पुरुषवाचक सर्वनाम :-

जिन सर्वनाम का प्रयोग किसी पुरुष या स्त्री के लिए होता है जिसमें बोलने वाला , सुनने वाला तथा जिसके संबंध में कुछ कहा जा रहा है , तीनों पुरुषों का बोध कराया जाय , उसे पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं
उदाहरण :- मैं , तुम , वह ।

इसमें तीन भेद है :-

1. प्रथम पुरुषवाचक :-

जिन सर्वनाम का प्रयोग बोलने वाला स्वयं अपने लिए करे ।
उदाहरण :- मैं , मेरा , मेरी , मेरे , हम , हमारा , हमारी , हमारे , मुझको , मुझे आदि ।


'मैं' उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता मैं, मैंने हम, हमने
कर्म मुझे, मुझको हमें, हमको
करण मुझसे हमसे
सम्प्रदान मुझे, मेरे लिए हमें, हमारे लिए
अपादान मुझसे हमसे
सम्बन्ध मेरा, मेरे, मेरी हमारा, हमारे, हमारी
अधिकरण मुझमें, मुझपर हममें, हमपर

2. मध्यम पुरुषवाचक :-

जिन सर्वनाम का प्रयोग वक्ता सुनने वाले के लिए करें ।
उदाहरण :- तुम , तू , तेरा , तुम्हारा , तुम्हारी , तुम्हारे , आप , आपका , आपकी , आपके आदि ।


'तू', 'तुम' मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता तू, तूने तुम, तुमने, तुमलोगों ने
कर्म तुझको, तुझे तुम्हें, तुमलोगों को
करण तुझसे, तेरे द्वारा तुमसे, तुम्हारे से, तुमलोगों से
सम्प्रदान तुझको, तेरे लिए, तुझे तुम्हें, तुम्हारे लिए, तुमलोगों के लिए
अपादान तुझसे तुमसे, तुमलोगों से
सम्बन्ध तेरा, तेरी, तेरे तुम्हारा-री, तुमलोगों का-की
अधिकरण तुझमें, तुझपर तुममें, तुमलोगों में-पर

3. अन्य पुरुषवाचक :-

जिस सर्वनाम का प्रयोग वक्ता तथा श्रोता के अतिरिक्त किसी अन्य व्यक्ति के लिए किया जाता है ।
उदाहरण :- वह , वे , उसका , उसकी , उसके , वह , ये , इसका , इसके आदि ।


'वह' अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता वह, उसने वे, उन्होंने
कर्म उसे, उसको उन्हें, उनको
करण उससे, उसके द्वारा उनसे, उनके द्वारा
सम्प्रदान उसको, उसे, उसके लिए उनको, उन्हें, उनके लिए
अपादान उससे उनसे
सम्बन्ध उसका, उसकी, उसके उनका, उनकी, उनके
अधिकरण उसमें, उसपर उनमें, उनपर

2. निजवाचक सर्वनाम :-

जहां "आप" शब्द का प्रयोग आदर सूचक के अर्थ में न होकर स्वयं वक्ता के लिए होता है , उसे निजवाचक सर्वनाम कहते हैं ।

उदाहरण :- 1. यह कार्य मैं अपने आप कर लूंगा ।
2. वह औरों को नहीं अपने आप को सुधार रहा है ।
( विशेष : जहां आप शब्द श्रोता के लिए प्रयोग हो वहां यह आदरसूचक मध्यम पुरुष होता है और जहां आप शब्द का प्रयोग वक्ता स्वयं अपने लिए करें वहां निजवाचक होता है । )


3. निश्चयवाचक सर्वनाम :-

जिन सर्वनाम से किसी निश्चित व्यक्ति , वस्तु या स्थान का बोध हो , उसे निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं ।
उदाहरण :- यह , वह , वे , ये आदि ।
यह ठीक है ।
वह तो राम है ।

'यह' निश्चयवाचक सर्वनाम
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता यह, इसने ये, इन्होंने
कर्म इसको, इसे ये, इनको, इन्हें
करण इससे इनसे
सम्प्रदान इसे, इसको इन्हें, इनको
अपादान इससे इनसे
सम्बन्ध इसका, की, के इनका, की, के
अधिकरण इसमें, इसपर इनमें, इनपर

4. संबंधवाचक सर्वनाम :-

जो सर्वनाम शब्द एक सर्वनाम का संबंध दूसरे सर्वनाम से जोड़ने का कार्य करते हैं वे संबंधवाचक सर्वनाम कहलाते हैं ,
उदाहरण :- जो , सो आदि ।
जो करेगा सो भरेगा ।
जो आएगा वह पाएगा ।

'जो' संबंधवाचक सर्वनाम
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता जो, जिसने जो, जिन्होंने
कर्म जिसे, जिसको जिन्हें, जिनको
करण जिससे, जिसके द्वारा जिनसे, जिनके द्वारा
सम्प्रदान जिसको, जिसके लिए जिनको, जिनके लिए
अपादान जिससे (अलग होने) जिनसे (अलग होने)
संबंध जिसका, जिसकी, जिसके जिनका, जिनकी, जिनके
अधिकरण जिसपर, जिसमें जिनपर, जिनमें

5. प्रश्नवाचक सर्वनाम :-

जिन सर्वनाम शब्दों से किसी प्रश्न का बोध होता हो , उन्हें प्रश्नवाचक सर्वनाम कहते हैं ।
उदाहरण :- क्या , कौन , कहां आदि ।
कौन आ रहा है ?
कहां जा रहे हो ?

'कौन' प्रश्नवाचक सर्वनाम
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता कौन, किसने कौन, किन्होंने
कर्म किसे, किसको, किसके किन्हें, किनको, किनके
करण किससे, किसके द्वारा किनसे, किनके द्वारा
सम्प्रदान किसके लिए, किसको किनके लिए, किनको
अपादान किससे (अलग होने) किनसे (अलग होने)
संबंध किसका, किसकी, किसके किनका, किनकी, किनके
अधिकरण किसपर, किसमें किनपर, किनमें

6. अनिश्चयवाचक सर्वनाम :-

जिन सर्वनाम शब्दों से किसी निश्चित व्यक्ति या वस्तु का बोध न हो , उन्हें अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं ।
उदाहरण :- कोई , कुछ आदि ।
कोई द्वार पर खड़ा है ।
कुछ खाने के लिए ले आओ ।
( प्राय: "कोई" सजीव प्राणियों के लिए आता है तथा "कुछ" वस्तुओं के लिए प्रयुक्त होता है । )

'कोई' अनिश्चयवाचक सर्वनाम
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता कोई, किसने किन्हीं ने
कर्म किसी को किन्हीं को
करण किसी से किन्हीं से
सम्प्रदान किसी को, किसी के लिए किन्हीं को, किन्हीं के लिए
अपादान किसी से किन्हीं से
सम्बन्ध किसी का, किसी की, किसी के किन्हीं का, किन्हीं की, किन्हीं के
अधिकरण किसी में, किसी पर किन्हीं में, किन्हीं पर


सर्वनामो में वचन , कारक और लिंग

वचन , कारक और लिंग के अनुसार सर्वनामो के जो रूप होते हैं , उनका संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है

1. सर्वनामों के वचन :-

उत्तम पुरुष मध्यम पुरुष अन्य पुरुष
एकवचन मैं तू वह
बहुवचन हम तुम , आप वे , आप

( "आप" आदरसूचक सर्वनाम है । इसका प्रयोग मध्यम पुरुष एवं अन्य पुरुष दोनों में होता है । )

'आप' आदरसूचक
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता आपने आपलोगों ने
कर्म आपको आपलोगों को
करण आपसे आपलोगों से
सम्प्रदान आपको, के लिए आपलोगों को, के लिए
अपादान आपसे आपलोगों से
सम्बन्ध आपका, की, के आपलोगों का, की, के
अधिकरण आप में, पर आपलोगों में, पर


2. सर्वनामो में कारक :-

उपयुक्त सर्वनामो के रूप विभिन्न कारकों में इस प्रकार होते हैं -

कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता मैं , तू , वह , मैंने , तूने , उसने हम , तुम, आप, वे , हमने , तुमने , आपने , उन्होंने
कर्म मुझको , तुझको , उसको , तुझे , मुझे हमको , तुमको , आपको , उनको , उन्हें , हमें , तुम्हें
करण मुझसे , तुझसे , उससे हमसे , तुमसे , उनसे आपसे
संप्रदान मुझको , तुझको , उसको , मुझे , तुझे , उसे , मेरे लिए , तेरे लिए , उसके लिए हमको , तुमको , उनको , हमें , तुम्हें , उन्हें , हमारे लिए , तुम्हारे लिए, उनके लिए, आपके लिए
अपादान मुझसे , तुझसे , उससे हमसे , तुमसे , उनसे , आपसे
संबंध मेरा , मेरी, मेरे, उसका , उसकी , उसके तुम्हारा , तुम्हारी , तुम्हारे , उनका , उनकी , उनके , आपके , आपकी
अधिकरण मुझमें , मुझ पर, तुझमें , तुझ पर , उसमें , उस पर हममें , हम पर , आपमें , आप पर , तुममें , तुम पर , उनमें , उन पर


3. सर्वनामों में लिंग :-

सर्वनाम शब्दों के रूप में लिंग के कारण कोई परिवर्तन नहीं होता है । सर्वनाम शब्द स्त्री पुरुष दोनों के लिए एक ही रूप में प्रयुक्त होते हैं । सर्वनाम शब्द का लिंग उसके साथ प्रयुक्त क्रिया से जाना जाता है या उस शब्द से जाना जाता है जिससे स्थान पर उसका प्रयोग हुआ है ।
उदाहरण :-
"राम" परिश्रम करता है , वह प्रथम आयेगा ।
( "वह" पुल्लिंग है )
"सीता" परिश्रम करती है, वह प्रथम आयेगी ।
( "वह" स्त्रीलिंग है )

✻ परीक्षा उपयोगी महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर :-

1. मैं सर्वनाम है
उत्तम पुरुषवाचक ✔
मध्यम पुरुषवाचक
अन्य पुरुषवाचक
कोई नहीं

2. "मैंने खाना खा लिया" में सर्वनाम शब्द है
मैंने ✔
खा
खाना
कोई नहीं

3."मैंने खाना खा लिया" में सर्वनाम शब्द है ?
साथ
वह ✔
में
भी

4. "यह वह लड़का है जो कल आया था" में सर्वनाम है ?
पुरुषवाचक
संबंधवाचक ✔
निश्चयवाचक
कोई नहीं

5. " वह पुस्तक है" में सर्वनाम है
संबंधवाचक
निश्चयवाचक ✔
प्रश्नवाचक
अनिश्चयवाचक

6. " कोई आ रहा है" में सर्वनाम शब्द है

रहा
कोई ✔
कोई नहीं

7. " वहां कुछ देखा गया था " में सर्वनाम है
निश्चयवाचक
प्रश्नवाचक
अनिश्चयवाचक ✔
कोई नहीं

8. " मैं आप ही चला जाऊंगा " वाक्य में सर्वनाम है ?
निजवाचक ✔
निश्चयवाचक
संबंध वाचक
प्रश्नवाचक

9. राम ने श्याम से कहा "तू पढ़ ले" मैं सर्वनाम शब्द है
राम
श्याम
तू ✔
कहां

Download PDF



✻ इन्हें भी पढ़े :-

रस/रस के प्रकार - उदाहरण सहित
वाच्य
प्रमुख भारतीय लेखक एवं उनकी पुस्तकों की सूची

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

Promoted Posts