विश्व के महासागर व प्रमुख नहरें


विश्व के महासागर व प्रमुख नहरें के नाम , क्षेत्रफल , गहरा स्थान और मीटर के बारे जानकारी दी गयी हैं नीचे दी गयीं विश्व के महासागर व प्रमुख नहरें की एक सूची हैं -

विश्व के महासागर :-

नाम क्षेत्रफल (km2 ) गहरा स्थान मीटर
प्रशान्त महासागर 16,57,23,740 मेरियाना गर्त 11,022
अटलांटिक महासागर 8,29,63,800 प्यूरिटो रिको गर्त 8,392
हिन्द महासागर 7,34,25,500 सुण्डा गर्त 8,152
आर्कटिक महासागर 1,40,56,000 यूरेशियन बेसिन 5,450
अण्टार्कटिक महासागर अप्राप्त अप्राप्त -

विश्व की प्रमुख नहरें :-

नाम स्थान स्थिति
हर सं. रा.अमेरिका सुपीरियर झील को ह्यूरन झील से जोड़ती है।
ईरी नहर अमेरिका सं. रा.अमेरिका ईरी झील और मिशीगन झील को जोड़ती है।
गोटा नहर स्वीडन स्टॉकहोम और गुटेनबर्ग के बीच।
कील नहर जर्मनी उ. सागर और बाल्टिकसागर के बीच
उ.सागर नहर जर्मनी उत्तरी सागर व एम्सटर्डम के बीच।
मैनचेस्टर नहर ग्रेट ब्रिटेन मैनचेस्टर और लिवरपुल के बीच।
न्यू वाटर वे जर्मनी उत्तरी सागर और राटरडम के बीच
वोल्गा डान नहर रूस रोस्टोव और स्टालिनग्राड के बीच।
बेलेण्ड नहर सं.रा.अ. ईरी और ओण्टोरियो के बीच ।
के. पी. नहर भारत आन्ध्र प्रदेश और तमिलनाडु के बीच
स्वेज नहर मिस्र लाल सागर एवं भूमध्य सागर के बीच।
पनामा नहर पनामा कैरीबियन सागर और प्रशान्त महासागर के मध्य ।
अल्बर्ट नहर प. यूरोप एण्टवर्प लीग व वेनेलक्स को जोड़ती हैं।

स्वेज नहर :-

इसका निर्माण 1869 ई. में हुआ। इसके निर्माण का कार्य 1854 ई. में एक फ्रांसीसी इंजीनियर फर्दीनन्द-द-लेपेण्स को सौंपा गया था। इस नहर की लम्बाई 168 किमी, औसत गहराई 16.15 मीटर, अधिकतम चौड़ाई 365 मीटर एवं न्यूनतम चीड़ाई 60 मीटर है। इस नहर के उत्तरी प्रवेश द्वार पर यानी भू-मध्य सागर की ओर पोर्ट सईद तथा द, प्रवेश द्वार पर यानी लाल सागर की ओर पोर्ट स्वेज स्थित है। इस नहर के उत्तरी भाग में लिटिल झील, मध्य भाग टिमसा झील एवं द. भाग ग्रेट बिटर झील है। ये सभी खारे पानी की झीलें हैं। इस नहर के पश्चिमी किनारे पर ईस्माइलिया नगर है । 1956ई. में मिस्र द्वारा इस नहर का राष्ट्रीयकरण किया गया

पनामा नहर :-

इसका निर्माण 1914 ई. में हुआ। प्रारंभ में इस पर अमेरिका का अधिकार था, परन्तु 2000 ई. से इस पर पनामा का अधिकार हो गया ।

Post a Comment

0 Comments