उत्तोलक (Lever)

उत्तोलक (Lever) के  प्रकार  व आलंब,आयास,भार

उत्तोलक (Lever) के प्रकार व आलंब,आयास,भार

उत्तोलक एक सीधी या टेढ़ी दृढ़ छड़ होती है, जो किसी निश्चित बिन्दु के चारों ओर स्वतंत्रतापूर्वक घूम सकती है।

उत्तोलक में तीन बिन्दु होते हैं :-

1. आलंब (Fulcrum) :-

जिस निश्चित बिन्दु के चारों ओर उत्तोलक की छड़ स्वतंत्रतापूर्वक घूम सकती है, उसे आलंब कहते हैं।

2. आयास (Effort) :-

उत्तोलक को उपयोग में लाने के लिए उस पर जो बल लगाया जाता है, उसे आयास कहते हैं।

3. भार (Load) :-

उत्तोलक के द्वारा जो बोझ उठाया जाता है अथवा रुकावट हटायी जाती है, उसे भार कहते हैं।

यह भी पढ़े माउंट एवरेस्ट से संबंधित कुछ तथ्य व प्रश्नोत्तर

उत्तोलक तीन प्रकार के होते हैं -

1. प्रथम श्रेणी का उत्तोलक :-

इस वर्ग के उत्तोलकों में आलंब F, आयास E तथा भार W के बीच में स्थित होता है इस प्रकार के उत्तोलकों में यांत्रिक लाभ 1 से अधिक, 1 के बराबर तथा 1 से कम भी हो सकता है।
उदाहरण :- कैंची, पिलाश, सिंडासी, कील उखाड़ने की मशीन, शीश झूला, साइकिल का ब्रेक, हैंड पंप।

2. द्वितीय श्रेणी का उत्तोलक :-

इस वर्ग के उत्तोलक में आलंब F तथा आयास E के बीच भार W होता है। इस प्रकार के उत्तोलकों में यांत्रिक लाभ सदैव एक से अधिक होता है।
उदाहरण :- सरौता, नींबू निचोड़ने की मशीन, एक पहिये की कूड़ा ढोने की गाड़ी आदि।

3. तृतीय श्रेणी का उत्तोलक :-

इस वर्ग के उत्तोलकों में आलंब F भार W के बीच में आयास E होता है। इसका यांत्रिक लाभ सदैव एक से कम होता है।
उदाहरण :- चिमटा, मनुष्य का हाथ ।


Note :- अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद हो तो आप हमारे facebook पेज को like करके हमारा हौसला बढ़ाने में मदद कर सकते हो



उत्तोलक (Lever) के प्रकार व आलंब,आयास,भार Pdf Download

यह भी पढ़े वायुमंडल का अध्ययन

Post a Comment

0 Comments