अलंकार की परिभाषा , भेद / प्रकार तथा 50+ उदाहरण | PDF Download |

अलंकार की परिभाषा , भेद / प्रकार तथा 50+ उदाहरण | PDF Download |

अलंकार की परिभाषा :-

अलंकार शब्द का सामान्य अर्थ "आभूषण" है |
जिस प्रकार शरीर की शोभा बढ़ाने के लिए आभूषण धारण किए जाते हैं , उसी प्रकार काव्य की शोभा - वृद्धि के लिए प्रयुक्त तत्व अलंकार कहे जाते है |

अलंकार के प्रकार / भेद :-

अलंकार के मुख्यत: दो भेद है जो निम्न प्रकार है _
(क) शब्दालंकार
(ख) अर्थालंकार

(क) शब्दालंकार :-

" काव्य में शब्दों के प्रयोग से चमत्कार उत्पन्न हो " |

शब्दालंकार के भेद :-

शब्दालंकार के मुख्यत: 3 भेद है जिनका उदाहरण सहित वर्णन निम्न प्रकार है -

(A) अनुप्रास अलंकार :-

" वर्णों की आवृति एक से अधिक बार हो " |
उदाहरण :-
(1) भगवान ! भक्तों की भयंकर भूरि भीति भगाईये |
(2) सिसिर मैं ससि कौं सरूप पावै सविताऊ |
(3) मधुर - मधुर मेरे दीपक जल |
(4) निरपख होइ के हरि भजै , सोई संत सुजान |
(5) बसौं ब्रज गोकुल गाँव के ग्वारन |
(6) मिलि कालिंदी कूल कदंब की डारन |
(7) या मुरली मुरलीधर की अधरान धरी अधरा न धरौंगी |
(8) उड़ - उड़ वृतों से वृतों के वृत्तों पर |
(9) हँसमुख हरियाली हिम आतप |
(10) ऊँचे कुल का जनमिया , जे करनी ऊँच न होइ | सुबरन कलस सुरा भरा , साधू निंदा सोइ |
(11) कोटिक ए कलधौत के धाम करील के कुंजन ऊपर बारौं |
(12) मखमल की कोमल हरियाली |

(B) यमक अलंकार : -

" शब्दों की आवृति हो पर अर्थ भिन्न - भिन्न हो "|
उदाहरण :-
(13) काली घटा का घमण्ड घटा , नभ - मण्डल तारक - वृन्द खिले |
(14) तीन बेर खाती थीं , वे तीन बेर खाती हैं |
(15) कनक - कनक ते सौगुनी , मादकता अधिकाय |
(16) काली तू , रजनी भी काली , शासन की करनी भी काली |
(17) मेरी काल कोठरी काली , शासन की करनी भी काली |

(C) श्लेष अलंकार :-

" एक ही शब्द के एक से अधिक अर्थ प्रकट होकर चमत्कार की अनुभूति कराते हैं " |
उदाहरण :-
(18) बलिहारी नृप कूप की , गुन बिन बूँद न देई |
(19) सुबरन कौ ढूँढत फिरै , कवि , कामी अरु चोर |
(20) हाथ पीले कर लिये हैं |

(ख) अर्थालंकार :-

" काव्य में अर्थ के कारण चमत्कार उत्पन्न हो "|

अर्थालंकार के भेद :-

अर्थालंकार के मुख्यत: 5 भेद है जिनका उदाहरण सहित वर्णन निम्न प्रकार है _

(A) उपमा अलंकार :-

किसी वस्तु की समानता किसी दूसरी श्रेष्ठ ( प्रसिद्ध ) वस्तु से की जाए "|
उदाहरण :-
(21) विदग्ध होके कण धूलि - राशि का , तपे हुए लौह - कणों समान था |
(22) पीपर पात सरिस मन डोला |
(23) सिंधु - सा विस्तृत और अथाह , एक निर्वारित का उत्साह |
(24) स्वान रूप संसार है , भूँकन दे झख मारि |
(25) सुख से अलसाये - से सोये |
(26) तारक स्वप्नों में - से खोये |
(27) मरकत डिब्बे - सा खुला ग्राम |
(28) एक बीते के बराबर |
(29) एक चाँदी का बड़ा - सा गोल खंभा |
(30) मखमली पेटियों सी लटकी छीमियाँ छिपाए बीज लड़ी |
(31) चाँदी की सी उजली जाली |
(32) रोमांचित - सी लगती वसुधा |

(B) रूपक अलंकार :-

" उपमेय और उपमान में एकरूपता दिखाकर दोनों में अभेद स्थापित किया जाए "|
उदाहरण :-
(33) अम्बर - पनघट में डुबो रही , तारा - घट उषा - नागरी |
(34) हस्ती चढ़िए ज्ञान कौ , सहज दुलीचा डारि |
(35) खाली करता हूँ ब्रिटिश अकड़ का कूआं |
(36) प्राणों का आसव किसमें भर दूँ |

(C) उत्प्रेक्षा अलंकार : -

" उपमेय में किसी उपमान की सम्भावना व्यक्त की जाए "|
उदाहरण :-
(37) लट - लटकनि मनु मत्त मधुपगन मादक मदहिं पिए |
(38) दादुर धुनि चहुँ ओर सुहाई , वेद पढ़त जनु बटु समुदाई |
(39) फूले फिरते हों फूल स्वयं उड़ - उड़ वृंतों से वृंतों पर |
(40) फिरती है रंग - रंग की तितली रंग - रंग के फूलों पर सुन्दर |

(D) अतिशयोक्ति अलंकार : -

" किसी कथन को बढ़ा - चढ़ाकर कहा जाए जिससे वह असामान्य प्रतीत हो "|
उदाहरण :-
(41) हनुमान की पूँछ में लगन न पाई आग , लंका पूरी जल गई गए निसाचर भाग |
(42) रस्सी कच्चे धागे की , खींच रही मैं नाव | ( रुपकातिशयोक्ति अलंकार )
(43) खुलेगी साँकल बंद द्वार की | ( रुपकातिशयोक्ति अलंकार )
(44) आई सीधी राह से गई न सीधी राह | सुसुम सेतु पर खड़ी थी , बीत गया दिन आह | ( अन्योक्ति अलंकार )
(45) मानसरोवर सुभर जल , हंसा केलि कराहीं मुकता फल मुकता चुगैं , अब उडि अनत न जाहिं |

(E) मानवीकरण अलंकार :-

" जहाँ जड़ प्रकृति पर मानवीय भावनाओं तथा क्रियाओं का आरोप हो "|
उदाहरण :-
(46) हँसमुख हरियाली हिम आतप सुख से अलसाए - से सोए |
(47) यह हरा ठिगना चना , बाँधे मुरैठा शीश पर |
(48) देखता हूँ मैं स्वयंवर हो रहा है |
(49) हैं कई पत्थर किनारे पी रहे चुपचाप पानी |
(50) लो हरित धरा से झाँक रही नीलम की कलि , तीसी नीली |
(51) कह रही है , जो छुए यह दूँ हृदय का दान उसको |

अलंकार की परिभाषा , भेद / प्रकार तथा 50+ उदाहरण | PDF Download |

पीडीएफ को देखें और दोस्तों को शेयर करे


Download PDF

Exam Solved Paper की Free PDF यहां से Download करें

सभी बिषयवार Free PDF यहां से Download करें

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Promoted Posts