100 वाक्य हिंदी से संस्कृत/संस्कृत से हिन्दी में अनुवाद | PDF Download |

100 वाक्य हिंदी से संस्कृत/संस्कृत से हिन्दी में अनुवाद | PDF Download |

अनुवाद का अर्थ :-

एक भाषा को दूसरी भाषा में परिवर्तित करने का नाम अनुवाद है |
अनुवाद निरंतर अभ्यास की प्रक्रिया है | अत: छात्रों को चाहिए कि वे प्रतिदिन कुछ हिंदी के वाक्यों का नियमानुसार संस्कृत में अनुवाद करें तथा अपने शिक्षकों को दिखाकर अपनी कमियों को दूर करके दक्षता प्राप्त करें |
यहाँ हमारे द्वारा हिंदी से संस्कृत में अनुवाद के 100 सरल वाक्य दिये गये है जिनका अभ्यास कर पाठक भाषाई अनुवाद में दक्षता प्राप्त कर सकता है | आप हमें नीचे comment करके बता सकते है कि आपको यह लेख कैसा लगा |

(1) मोहन दौड़ता है |
संस्कृत में अनुवाद:- मोहन: धावति |

(2) बालक पढ़ता है |
संस्कृत में अनुवाद:- बालक: पठति |

(3) राधा भोजन पकाती है |
संस्कृत में अनुवाद:- राधा भोजनं पचति |

(4) छात्र देखता है |
संस्कृत में अनुवाद:- छात्र: पश्यति |

(5) गीदड़ आता है |
संस्कृत में अनुवाद:- शृगाल: आगच्छति |

(6) वह प्रश्न पूछता है |
संस्कृत में अनुवाद:- स: प्रश्नं पृच्छति |

(7) बन्दर फल खाता है |
संस्कृत में अनुवाद:- कपि: फलं भक्षयति |

(8) दो बच्चे पढ़ते है |
संस्कृत में अनुवाद:- शिशू पठत: |

(9) वे सब दौड़ते है |
संस्कृत में अनुवाद:- ते धावन्ति |

(10) बालक चित्र देखते हैं |
संस्कृत में अनुवाद:- बालका: चित्रं पश्यन्ति |

(11) तुम पाठ पढ़ते हो |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वं पाठं पठसि |

(12) तुम क्या देखते हो |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वं किं पश्यसि |

(13) तुम कब जाते हो ?
संस्कृत में अनुवाद:- त्वं कदा गच्छसि ?

(14) तुम दोनों चित्र देखते हो |
संस्कृत में अनुवाद:- युवां चित्रं पश्यथ: |

(15) तुम दोनों पत्र लिखते हो |
संस्कृत में अनुवाद:- युवां पत्रं लिखथ: |

(16) तुम सब यहाँ आते हो |
संस्कृत में अनुवाद:- यूयम् अत्र आगच्छथ |

(17) तुम सब प्रात: दौड़ते हो |
संस्कृत में अनुवाद:- यूयं प्रात: धावथ |

(18) तुम दोनों फल खाते हो |
संस्कृत में अनुवाद:- युवां फलं भक्षयथ: |

(19) तुम यहाँ आते हो |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वम् अत्र आगच्छसि |

(20) तुम सब कहाँ जाते हो ?
संस्कृत में अनुवाद:- यूयं कुत्र गच्छथ ?

(21) वह गाँव को गया |
संस्कृत में अनुवाद:- स: ग्रामम् अगच्छत् |

(22) ब्राह्मण घर गया |
संस्कृत में अनुवाद:- विप्र: गृहम् अगच्छत् |

(23) उसने स्नान किया |
संस्कृत में अनुवाद:- स: स्नानम् अकरोत् |

(24) राम और मोहन पढ़े |
संस्कृत में अनुवाद:- राम: मोहन: च अपठताम् |

(25) वे दोनों बाग को गए |
संस्कृत में अनुवाद:- तौ उद्यानम् अगच्छताम् |

(26) सीता पानी लायी |
संस्कृत में अनुवाद:- सीता जलम् आनयत् |

(27) लड़की ने खाना खाया |
संस्कृत में अनुवाद:- बालिका भोजनम् अभक्षयत् |

(28) क्या तुम्हारा भाई यहाँ आया ?
संस्कृत में अनुवाद:- किं तव सहोदर: अत्र आगच्छत् ?

(29) तुम लोग कहाँ गए ?
संस्कृत में अनुवाद:- यूयं कुत्र अगच्छत ?

(30) सीता ने एक पत्र लिखा |
संस्कृत में अनुवाद:- सीता एकं पत्रम् अलिखत् |

(31) उसका मित्र आया |
संस्कृत में अनुवाद:- तस्य मित्रम् आगच्छत् |

(32) कृष्ण ने अर्जुन से कहा |
संस्कृत में अनुवाद:- कृष्ण: अर्जुनम् अकथयत् |

(33) मुनि ने तप किया |
संस्कृत में अनुवाद:- मुनि: तप: अकरोत् |

(34) राम ने पत्र लिखा |
संस्कृत में अनुवाद:- राम: पत्रम् अलिखत् |

(35) मैनें चोरों को देखा |
संस्कृत में अनुवाद:- अहं चौरान् अपश्यम् |

(36) राम ने सदा सत्य बोला |
संस्कृत में अनुवाद:- राम: सदा सत्यम् अवदत् |

(37) सेवक ने अपना कार्य किया |
संस्कृत में अनुवाद:- सेवक: स्वकार्यम् अकरोत् |

(38) धनिक ने धन दिया |
संस्कृत में अनुवाद:- धनिक: धनम् अयच्छत् |

(39) अध्यापक क्रुद्ध हुआ |
संस्कृत में अनुवाद:- अध्यापक: क्रुद्ध: अभवत् |

(40) तुमने कल क्या किया |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वं ह्य: किम् अकरो: |

(41) ब्रह्मादत्त जाएगा |
संस्कृत में अनुवाद:- ब्रह्मादत्त: गमिष्यति |

(42) मोहनश्याम पत्र लिखेगा |
संस्कृत में अनुवाद:- मोहनश्याम: पत्रं लेखिष्यति |

(43) लड़के पाठ पढ़ेगें |
संस्कृत में अनुवाद:- बालका: पाठं पठिष्यन्ति |

(44) तुम पाठ याद करोगे |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वं पाठं स्मरिष्यसि |

(45) सीता वन को जाएगी |
संस्कृत में अनुवाद:- सीता वनं गमिष्यति |

(46) वे सब चित्र देखेंगे |
संस्कृत में अनुवाद:- ते चित्रं द्रक्ष्यन्ति |

(47) प्रमिला खाना पकाएगी |
संस्कृत में अनुवाद:- प्रमिला भोजनं पक्ष्यति |

(48) तुम दोनों दूध पियोगे |
संस्कृत में अनुवाद:- युवां दुग्धं पास्यथ: |

(49) छात्र खेल के मैदान में दौड़ेंगे |
संस्कृत में अनुवाद:- छात्रा: क्रीड़ाक्षेत्रे धाविष्यन्ति |

(50) मैं क्या करूँगा ?
संस्कृत में अनुवाद:- अहं किं करिष्यामि ?

(51) तुम प्रसन्न होंगे |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वं प्रसन्न: भविष्यसि |

(52) हम क्या चाहेंगे ?
संस्कृत में अनुवाद:- वयं किम् एषिष्याम: ?

(53) राम स्नान करेगा |
संस्कृत में अनुवाद:- राम: स्नानं करिष्यति |

(54) मैं क्रोध करूँगा |
संस्कृत में अनुवाद:- अहं क्रोत्स्यामि |

(55) पुत्र पिता के साथ जाएगा |
संस्कृत में अनुवाद:- पुत्र: जनकेन सह गमिष्यति |

(56) बालक पुस्तकें गिनेगा |
संस्कृत में अनुवाद:- बालक: पुस्तकानि गणयिष्यति |

(57) चोर धन चुराएगा |
संस्कृत में अनुवाद:- चौर: धनं चोरयिष्यति |

(58) मैं तेरे साथ चलूँगा |
संस्कृत में अनुवाद:- अहं त्वया सह चलिष्यामि |

(59) वह पुरस्कार जीतेगा |
संस्कृत में अनुवाद:- स: पुरस्कारं जेष्यति |

(60) शिक्षक छात्र को पीटेगा |
संस्कृत में अनुवाद:- शिक्षक: छात्रं ताडयिष्यति |

(61) राधा पाठ पढ़े |
संस्कृत में अनुवाद:- राधा पाठं पठतु |

(62) छात्र भोजन करें |
संस्कृत में अनुवाद:- छात्रा: भोजनं कुर्वन्तु |

(63) राजा धन दे |
संस्कृत में अनुवाद:- नृप: धनं यच्छतु |

(64) ईश्वर जीवन बचाए |
संस्कृत में अनुवाद:- ईश्वर: जीवनं रक्षतु |

(65) हम चित्र देखें |
संस्कृत में अनुवाद:- वयं चित्रं पश्याम |

(66) तुम बाग में दौड़ो |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वम् उद्याने धाव |

(67) वे फूल ले जाएँ |
संस्कृत में अनुवाद:- ते पुष्पाणि नयन्तु |

(68) वे दोनों जल पिएँ |
संस्कृत में अनुवाद:- तौ जलं पिबताम् |

(69) राधा खाना पकाए |
संस्कृत में अनुवाद:- राधा भोजनं पचतु |

(70) तुम दोनों पाठ पढ़ो |
संस्कृत में अनुवाद:- युवां पाठं पठतम् |

(71) वह कविता रचे |
संस्कृत में अनुवाद:- स: कवितां रचयतु |

(72) तुम दोनों पत्र लिखो |
संस्कृत में अनुवाद:- युवां पत्रं लिखतम् |

(73) मैं सत्य बोलूँ |
संस्कृत में अनुवाद:- अहं सत्य वदानि |

(74) हम सभी सृजन करें |
संस्कृत में अनुवाद:- वयं सर्वे सृजाम |

(75) मोहन और सोहन पाठ याद करें |
संस्कृत में अनुवाद:- मोहन: सोहन: च पाठं स्मरताम् |

(76) वे फूल स्पर्श नहीं करें |
संस्कृत में अनुवाद:- ते पुष्पाणि न स्पृशन्तु |

(77) तुम मत हंसो |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वं मा हस |

(78) हम बाग को जाएँ |
संस्कृत में अनुवाद:- वयम् उद्यानं गच्छाम |

(79) आओ, पढ़ो, लिखो |
संस्कृत में अनुवाद:- आगच्छ, पठ, लिख |

(80) वहाँ मत जाओ |
संस्कृत में अनुवाद:- तत्र मा गच्छ |

(81) उसे पाठ पढ़ना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- स: पाठं पठेत् |

(82) तुम्हें वहाँ जाना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वं तत्र गच्छे: |

(83) सीता को खाना पकाना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- सीता भोजनं पचेत् |

(84) उसे पत्र लिखना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- स: पत्रं लिखेत् |

(85) तुम्हें क्रोध नहीं करना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वं क्रोधं न कुर्या: |

(86) तुम्हें पाठ याद करना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वं पाठं स्मरे: |

(87) मुझे तुम्हारे साथ होना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- अहं त्वया सह भवेयम् |

(88) माताजी को कहानी कहनी चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- जननी कथां कथयेत् |

(89) हमें विद्यालय रोजाना जाना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- वयं प्रतिदिनं विद्यालयं गच्छेम् |

(90) उन्हें गाँव नहीं जाना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- ते ग्रामं न गच्छेयु: |

(91) बच्चो को भयभीत नहीं होना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- बालका: भयभीता: न भवेयु: |

(92) तुम सभी को देश की रक्षा करनी चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- यूयं देशस्य रक्षां कुर्यात |

(93) लड़की को नहीं हँसना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- बालिका न हसेत् |

(94) उसे विद्वान् का सम्मान करना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- स: विदुष: सम्मानं कुर्यात |

(95) हमें शिक्षकों की आज्ञा माननी चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- वयं शिक्षकानाम् आज्ञापालनं कुर्याम |

(96) तुम्हें कलह नहीं करना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वं कलहं न कुर्या: |

(97) हमें अपनी पुस्तकें पढ़नी चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- वयं स्वपुस्तकानि पठेम् |

(98) राम को धीरे - धीरे बोलना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- राम: मन्दं - मन्दं वदेत् |

(99) तुम्हें प्रात: पाठ याद करने चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- त्वं प्रात: पाठान् स्मरे: |

(100) पुत्र को पिता के साथ होना चाहिए |
संस्कृत में अनुवाद:- पुत्र: जनकेन सह भवेत् |

100 वाक्य हिंदी से संस्कृत/संस्कृत से हिन्दी में अनुवाद | PDF Download |

पीडीएफ को देखें और दोस्तों को शेयर करे


Download PDF

Exam Solved Paper की Free PDF यहां से Download करें

सभी बिषयवार Free PDF यहां से Download करें

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Promoted Posts