ई - कॉमर्स ( E - Commerce ) क्या है , इसकी विशेषताएँ , प्रकार , ई - कॉमर्स से लाभ तथा हानि | PDF Download |

ई - कॉमर्स ( E - Commerce ) क्या है ,इसकी विशेषताएँ , प्रकार ,  ई - कॉमर्स से  लाभ तथा हानि | PDF Download |

ई - कॉमर्स का अर्थ :-

इलेक्ट्रॉनिक वाणिज्य अर्थात ई - कॉमर्स का अर्थ है इन्टरनेट के माध्यम से व्यापार करना |

( E - Commerce ) की Full Form :-

Electronic Commerce

ई - कॉमर्स ( E - Commerce ) की विशेषताएँ :-

1. ई - कॉमर्स , उन वृहद परास ऑनलाइन व्यापारिक कार्यों को इंगित करता है जिनके माध्यम से इन्टरनेट पर वस्तुएँ एवं सेवाएं खरीदी व बेचीं जाती है |
2. ई - वाणिज्य , उन सभी वाणिज्यिक गतिविधियों से सम्बन्धित है जिसमें दो या दो से अधिक पक्ष ( व्यापारी या ग्राहक ) भौतिक सम्पर्क या भौतिक विनिमय के स्थान पर इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से अन्योन्य व्यापारिक क्रिया करते है |
3. ई - व्यापार , ई - बैंकिंग , ई - फाइनेंस या ई - शोपिंग आदि ई - कॉमर्स के भाग है |

ई - कॉमर्स से व्यापार करना :-

चरण - (1) :- ई - कॉमर्स , कम्प्यूटर तथा उसके नेटवर्क की सहायता से व्यापार की जाने वाली पद्धति है , जहाँ ग्राहक तथा दुकानदार दोनों अपने - अपने कम्प्यूटर पर कार्य कर रहे है तथा उनके कम्प्यूटर आपस में जुड़ें है |
चरण - (2) :- ग्राहक अपने कम्प्यूटर की सहायता से ही दुकानदार से माल की कीमत , उसकी गुणवत्ता , डिस्काउंट ( यदि हो तो ) तथा डिलीवरी की दिनांक इत्यादि जानकारी मांगता है |
चरण - (3) :- दुकानदार अपने कम्प्यूटर से ही इन सभी सवालों का जवाब देता है |
चरण - (4) :- दुकानदार के जवाब से संतुष्ट होकर ग्राहक अपना आर्डर देता है |
चरण - (5) :- दुकानदार ग्राहक के ऑर्डर पर माल सप्लाई करके उसे कम्प्यूटर नेटवर्क के द्वारा ही बिल दे सकता है जिसे ग्राहक चाहे तो नेटवर्क पर ही भुगतान कर सकता है |
चरण - (6) :- यह प्रक्रिया , दोनों कम्प्यूटरों के नेटवर्क से जुड़ने के कुछ ही समय में सम्पन्न हो जाती है |

विश्वव्यापी अर्थव्यवस्था में ई - कॉमर्स का प्रभाव :-

1. विश्वव्यापी अर्थव्यवस्था के प्रादुर्भाव के कारण ई - कॉमर्स या ई - व्यापार , व्यापार की व्यूह रचना के अंग बनते जा रहे है |
2. ई - कॉमर्स आर्थिक विकास में उत्प्रेरक का कार्य कर रहा है |
3. व्यापार में सूचना एवं संचार तकनीक के उपयोग ने व्यापारिक संगठनों के मध्य तथा व्यापारिक संगठन एवं व्यक्ति विशेष के मध्य संबंधों में क्रांतिकारी परिवर्तन ला दिये है |
4. ICT के व्यापार में उपयोग ने उत्पादन क्षमता में बढ़ोतरी , उत्पाद की लागत में कमी तथा ग्राहकों की भागीदारी को बढ़ावा दिया है |
5. ICT पर आधारित वाणिज्य में बदलते हुए वाणिज्यिक परिवेश को नयी ऊंचाईयों पर पहुंचा दिया है जिससे इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स के क्षेत्र को ओर व्यापक कर दिया है |

ई-कॉमर्स का आशय या ई-कॉमर्स क्या है :-

संगठनों के मध्य तथा व्यापारिक संगठन एवं व्यक्ति विशेष के मध्य व्यापारिक गतिविधियों की उत्पत्ति, परिवर्तन एवं संबंधों की पुनः परिभाषा के लिए इलेक्ट्रॉनिक संचार माध्यम तथा डिजिटल सूचना प्रसंस्करण तकनीकों का उपयोग ही "ई-कॉमर्स" कहलाता है|
इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स (Electronic Commerce) इंटरनेट जैसे बड़े इलेक्ट्रॉनिक नेटवर्क पर व्यापार करने का एक तरीका है । ई-कॉमर्स के अंतगर्त वस्तुओं या सेवाओं को खरीद या बिक्री इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम जैसे - इंटरनेट के द्वारा होता है । यह इंटरनेट पर व्यापार है । ई-कॉमर्स को व्यापक रूप से इंटरनेट पर उत्पादों की खरीदारी और बिक्री माना जाता है
इस तरह से इंटरनेट के माध्यम से सेवाओं और सामानों की बिक्री और खरीद को ही ई-कॉमर्स कहते है। इसमें इलेक्ट्रॉनिक रूप से डेटा या धन दो या दो से अधिक पार्टियों के बीच स्थानांतरित होता है। सीधे शब्दों में कहें, यह ऑनलाइन खरीदारी है|इसकी शुरुवात 1960 के दशक से शुरू हुई थी ।

ई-कॉमर्स से व्यापार करने के चरण :-

चरण - (1) :-

ई-कॉमर्स के अंतर्गत क्रेता इच्छित वस्तु को क्रय करने के लिए वस्तु का उत्पादन करने वाली या विक्रय करने वाली व्यापारिक संस्था की ई-कॉमर्स वेबसाइट पर जाकर वस्तु का चयन करता है |

चरण - (2) :-

क्रेता को उत्पाद का भुगतान क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड के द्वारा करना होता है |

चरण - (3) :-

इसके लिए विक्रेता की वेबसाइट पर सुविधा उपलब्ध होती है जहां क्रेता अपने क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड का नंबर तथा अन्य जानकारियां देता है |

चरण - (4) :-

विक्रेता कार्ड प्रदाता संस्था से इन जानकारियों का ऑनलाइन सत्यापन करता है तथा सौदा निश्चित कर देता है |

चरण - (5) :-

विक्रेता कोरियर या परिवहन सेवा की मदद से वस्तु को क्रेता द्वारा बताए गए पते पर भेजता है तथा भुगतान राशि क्रेता के खाते से विक्रेता के खाते में हस्तांतरित हो जाती है |

ई-कॉमर्स के प्रकार ( Types of E - Commerce ) :-

(1) व्यापार से व्यापार ( Business to Bussiness : B2B)
(2) व्यापार से ग्राहक ( Business to Customer : B2C)
(3) व्यापार से सरकार ( Business to Government : B2G)
(4) ग्राहक से ग्राहक ( Customer to Customer : C2C)
(5) मोबाइल वाणिज्य ( M - Commerce )
अब हम इन सभी प्रकारों का विस्तार पूर्वक अध्ययन करेंगे |

(1) व्यापार से व्यापार ( Business to Bussiness : B2B) :-

दो या दो से अधिक कंपनियों या व्यापारिक संस्थानों के मध्य इलेक्ट्रॉनिक संचार माध्यम से व्यापार B2B ई-कॉमर्स कहलाता है|
B2B बाजार के दो प्राथमिक घटक है - (a) ई - इंफ्रास्ट्रक्चर (b) ई - बाजार

(2) व्यापार से ग्राहक ( Business to Customer : B2C) :-

व्यापारिक संगठन एवं व्यक्तिगत उपभोक्ता के मध्य व्यापारिक गतिविधियों को "व्यापार ग्राहक ई-कॉमर्स" कहते हैं| ई-कॉमर्स में एक ग्राहक, व्यापारिक संगठन की वेबसाइट से उत्पादन की सूचना, भौतिक उत्पाद की खरीद, सूचना सामग्री, जैसे ई -बुक सॉफ्टवेयर आदि प्राप्त कर सकता है| B2C ई - कॉमर्स का दूसरा सबसे बड़ा तथा सबसे पुराना घटक है| B2C ई-कॉमर्स उत्पादों तथा सेवाओं की खरीददारी, निजी वित्तीय प्रबंधन आदि B2C ई-कॉमर्स के उदाहरण है|

(3) व्यापार से सरकार ( Business to Government : B2G) :-

व्यापारिक संगठन एवं सरकार के मध्य वाणिज्य को "व्यापार से सरकार B2G ई - कॉमर्स" कहते हैं| B2G ई - वाणिज्य में सार्वजनिक प्राप्ति ( Public Procurment ) , लाइसेंस प्राप्त करने की क्रियाविधि तथा सरकार से संबंधित अन्य कार्यकलाप आदि सम्मिलित होते है | वेब पर आधारित सार्वजनिक क्रय नीति ने प्राप्ति प्रक्रिया को पारदर्शी बना दिया है |

(4) ग्राहक से ग्राहक ( Customer to Customer : C2C) :-

व्यक्ति विशेष या ग्राहकों के मध्य ऑनलाइन वाणिज्य को ग्राहक से ग्राहक (C2C) ई - वाणिज्य कहते हैं|
इस प्रकार का ई-कॉमर्स तीन प्रकार का होता है- (a) ग्राहकों को वेबसाइट पर नीलामी की सुविधा, इस प्रकार की वेबसाइट ग्राहकों को वस्तुओं के लिए अन्य ग्राहकों द्वारा बोली लगाने की सुविधा प्रदान करती है| (b) पीयर से पीयर निकाय की मदद से ग्राहकों को अपने संसाधन जैसे- फाइल, गाने, फोटोग्राफ, आदि शेयर करने की सुविधा प्रदान करते हैं | (c) वेबसाइट पर क्लासीफाइड विज्ञापन देने की सुविधा|

(5) मोबाइल वाणिज्य ( M - Commerce ):-

तार - विहोन तकनीक(Wireless Technology) जैसे- सेल्यूलर फोन, पर्सनल डिजिटल असिस्टेंट(PDA) की मदद से उत्पादों एवं सेवाओं को बेचना और खरीदना मोबाइल वाणिज्य ( M - Commerce ) कहलाता है|
वायरलेस युक्तियों पर विषय सूची पहुंचाना अधिक सुरक्षित,अधिक तेज, अधिक असरदार तथा अधिक व्यापक है| वित्तीय सेवा जैसे मोबाइल बैंकिंग , ई - ट्रेडिंग आदि दूरसंचार जैसे - बिल पेमेंट आदि यात्रा के दौरान वस्तुओं को खरीदना - बेचना एवं भुगतान करना, सूचना सेवा जैसे वित्तीय समाचार यातायात सूचना आदि मोबाइल वाणिज्य के उदाहरण है|

ई-कॉमर्स के लाभ ( Advantage of E - Commerce) :-

(1) वस्तु एवं सेवाओं को चुनने से पूर्व क्रेता घर बैठे विभिन्न विक्रेताओं की वेबसाइट पर जाकर उसकी विशेषताओं व कीमतों आदि की तुलना कर सकते हैं जिससे क्रेता को बहुत कम प्रयास में इच्छित वस्तु के बारे में पूर्ण जानकारी तथा चयन के लिए अनेक विकल्प उपलब्ध हो जाते हैं|
(2) ई-कॉमर्स से उत्पादक तथा क्रेता के मध्य मध्यस्थों की श्रंखला छोटी हो जाती है तथा विपणन लागत में कमी आ जाती है जिससे उत्पादक, कर्ताओं को तुलनात्मक रूप में कम मूल्य पर वस्तु को क्रय करने के अवसर प्रदान करते हैं |
(3) ई-कॉमर्स में व्यापारिक सूचनाओं का आदान प्रदान इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन होता है जिससे व्यापारिक सूचनाओं के आदान-प्रदान की लागत व समय में कमी आती है|
(4) ई-कॉमर्स से व्यापार में खर्चीले शोरूम, कमीशन एजेंट व सेल्समैन की आवश्यकता नहीं होती जिससे परंपरागत व्यवसाय की तुलना में विपणन लागत कम हो जाती है तथा विपणन सुविधाजनक, सरल व असरदार हो जाता है|
(5) ई कॉमर्स में उत्पादों एवं सेवाओं की जानकारी व्यापारिक संस्था की वेबसाइट पर उपलब्ध होती है| अत: विश्व के किसी भी स्थान से कोई भी व्यक्ति इन साइटों के माध्यम से उत्पादों एवं सेवाओं को प्राप्त कर सकता है| इस प्रकार व्यापारी को एक विश्वव्यापी बाजार उपलब्ध होता है|
(6) B2G ई-कॉमर्स ने लाइसेंस प्राप्त करने की क्रियाविधि, सरकार से संबंधित अन्य कार्यकलाप तथा प्राप्ति प्रक्रिया को बहुत पारदर्शी बना दिया है |

ई - कॉमर्स के नुकसान :-

(1) गोपनीयता और सुरक्षा:-

यह एक समस्या हो सकती है यदि ऑनलाइन स्टोर ऑनलाइन लेनदेन को सुरक्षित रखने के लिए सभी सुरक्षा और गोपनीयता की स्थिति प्रदान नहीं करता है। कोई भी नहीं चाहता कि उनकी व्यक्तिगत और वित्तीय जानकारी सभी को दिखाई दे, इसलिए खरीदने से पहले साइट पर शोध करना आवश्यक है।

(2) गुणवत्ता:-

इस तथ्य के बावजूद कि ईकॉमर्स पूरी खरीद प्रक्रिया को आसान बनाता है, एक उपभोक्ता वास्तव में उत्पाद को तब तक नहीं छू सकता है जब तक कि इसे घर पर वितरित नहीं किया जाता है।

(3) छुपी कीमत:-

ऑनलाइन खरीदते समय, उपभोक्ता को उत्पाद की कीमत, शिपिंग और संभावित करों के बारे में पता होता है, लेकिन यह भी संभव है कि छिपी हुई लागतें खरीद चालान में नहीं दिखाई जाती हैं, लेकिन भुगतान के रूप में दिखाई देती है |

(4) शिपमेंट में देरी:-

जबकि उत्पाद वितरण तेज है, मौसम की स्थिति, उपलब्धता और अन्य कारक उत्पाद शिपमेंट में देरी का कारण बन सकते हैं।

ग्राहकों के लिए ई-कॉमर्स के नुकसान:-

1. उत्पादों की व्यक्तिगत रूप से जांच करने में असमर्थ 2. ऑनलाइन खरीद में गोपनीयता और सुरक्षा 3. क्रेडिट कार्ड के साथ धोखाधड़ी 4. उत्पादों को प्राप्त करने में देरी 5. धोखाधड़ी की पहचान करने में असमर्थता 6. गारंटी / वारंटी 7. गुणवत्ता 8. छिपी हुई लागत 9. व्यक्तिगत बातचीत का अभाव 10. वेबसाइट धोखाधड़ी।

ई - कॉमर्स से संबंधित प्रश्नोतरी (वस्तुनिष्ठ प्रश्न) :-

1. ई-कॉमर्स से लाभ है- अश्मित माल की जानकारी अधिक व्यापार बिजनेस में समय की बचत उक्त सभी ✓

2. ई कॉमर्स में व्यवस्था है- ऑनलाइन शॉपिंग ऑनलाइन परचेजिंग 1 व 2 दोनों ✓ मैनुअल ट्रेडिंग

3. टेलीफोन बिल का भुगतान किस कार्ड की मदद से कर सकते हैं - कैश कार्ड क्रेडिट कार्ड स्मार्ट कार्ड ✓ उपरोक्त सभी

4. ई कॉमर्स में लेनदेन होती है- ऑनलाइन ✓ ऑफलाइन 1 व 2 दोनों इनमें से कोई नहीं

5. ई-कॉमर्स हेतु सुरक्षा उपाय है - क्रिप्टोग्राफी डिजिटल हस्ताक्षर 1 व 2 दोनों ✓ उक्त कोई नहीं

6. वर्तमान में ई-कॉमर्स में होने वाले सौदों में सबसे अधिक भाग है- b2b का ✓ b2c का c2c का c2b का

7. ई कॉमर्स में जो सौदे दो व्यापारियों के बीच किए जाते हैं उन्हें कहते है- b2b ✓ b2c c2b c2c

8. वह सौदा जिसके अंतर्गत विक्रेता और क्रेता बिना कागजों की अदला-बदली किए, बिना एक दूसरे से मिले इंटरनेट के माध्यम से लेनदेन करते है, कहलाता है - इंटरनेट वैल्यू ई-कॉमर्स ✓ ई सर्च उक्त कोई नहीं

9. ई - कॉमर्स में 'ई' शब्द का पूरा नाम है- इलेक्ट्रॉनिक ✓ इलेक्ट्रिकल इंटरनेट इटैलिक

10. निम्न में से कौन सी कंपनी निशुल्क ईमेल खाता उपलब्ध कराती है- हॉटमेल रेडिफमेल याहू ये सभी ✓

11. ई-कॉमर्स है - एक एप्लीकेशन ✓ एक सॉफ्टवेयर एक लैंग्वेज उक्त कोई नहीं

12. इंटरनेट में सुविधा उपलब्ध है- ईमेल वर्ल्ड वाइड वेब ई-कॉमर्स उपरोक्त सभी ✓

ई - कॉमर्स ( E - Commerce ) क्या है ,इसकी विशेषताएँ , प्रकार , ई - कॉमर्स से लाभ तथा हानि | PDF Download |

पीडीएफ को देखें और दोस्तों को शेयर करे


Download PDF

Exam Solved Paper की Free PDF यहां से Download करें

सभी बिषयवार Free PDF यहां से Download करें

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Promoted Posts