भारत में खनिज संसाधन ( Mineral Resources in India )

भारत में खनन उद्योग एक प्रमुख आर्थिक गतिविधि है, जो भारत की अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करता है। खनन उद्योग का जीडीपी में योगदान 2.2 % से 2.5 % तक होता है, हालांकि कुल औद्योगिक क्षेत्र के हिसाब से देखा जाये तो यह जीडीपी में 10% से 11% के आसपास योगदान देता है। यहां तक कि छोटे पैमाने पर किए गए खनन से खनिज उत्पादन का भी कुल खनन में 6% का योगदान करता है। भारतीय खनन उद्योग लगभग 700,000 व्यक्तियों को रोजगार के अवसर प्रदान करने का कार्य करता है

पेट्रोलियम ( क्रूड) (Petrolium Crude) :-


उत्पादन :-

1. अपतटीय क्षेत्र 50.5% (कुल उत्पादन का)
Offshore area (महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश)
2. राजस्थान 23.6%
3. गुजरात 12.4%
4. असम 11.9%
5. तमिलनाडु
6. आंध्रप्रदेश
7. अरूणाचल प्रदेश व अन्य उत्पादक ।
Note :- राजस्थान में उत्पादन में गिरावट दर्ज ।


रिफाइनरियाँ :-

a. IOCL 1. गुहावटी 2. बरौनी ( बिहार ) 3. कोयली ( गुजरात ) 4. हल्दिया ( प. बंगाल ) 5. मथुरा 6. डिग्बोई ( असम ) 7. बोंगाईगाँव (असम ) 8. पानीपत ( हरियाणा )
b. BPCL 9. मुम्बई 10. कोची ( केरल )
c. HPCL 11. मुम्बुई 12. विशाख (आंध्र ) 13. भटिंडा ( संयुक्त उपक्रम )
d. CPCL 14. मनाली (तमिलनाडू) 15. नरिमनम ( तमिलनाडु )
e. MRPL 16. मंगलूरू (कर्नाटक)
f. NRL 17. नुमालिगढ़ (असम)
g. ONGC 18. ताटिपका (आंध)
h. भारत ओमान रिफायनरी 19. बीना ( mp ) ( संयुक्त उपक्रम )
I. RIL 20. जामनगर ( गुजरात ) दूसरा स्वाधिक उत्पादन।
j. RIL ( SEZ ) 21. जामनगर ( गुजरात ) - सर्वाधिक उत्पादन ।
k. एस्सार oil itd. 22. वादिनार ( गुजरात )


पेट्रोलियम उत्पादक क्षेत्र :-

I. ब्रह्मपुत्र घाटी माकूम, डिग्बोई, नहरकटिया, हगरीजान, मोरान रूद्रसागर-लकवा व सूरमाघाटी।
II. गुजरात खम्भात की खाड़ी में अंकलेश्वर व खंभात। खेड़ा से मेहसाना तक का क्षेत्र - कलोल, सानन्द नवगाँव, कोसाम्बा, ढोलका, मेहसाना (अहमदाबाद-कलोल क्षेत्र) खंभात में गान्धार क्षेत्र मुख्य ।
III. पश्चिम अपतटीय क्षेत्र
1. बम्बई हाई
2. बसीन
3. आलियाबेट ( भावनगर )
IV. पूर्वी अपतटीय क्षेत्र K.G. बेसिन का रावा क्षेत्र - अमलापुरू (आंध्र), नरिमनम व कोइरकला ( तमिलनाडु )
V. राजस्थान एश्वर्य, मंगला, भाग्यम् (बाड़मेर)


प्राकृतिक गैस :-

उत्पादन :-

1. अपतटीय क्षेत्र 73.9%
Ofishore Area ( महाराष्ट्र, गुजरात वे आँधर )
2. असम 8.8%
3. गुजरात 4.5%
4. तमिलनाडु 3.5%
5. राजस्थान 3.5%
6. त्रिपुरा 3.4%
7. ऑध्र
8. प. बंगाल
9. अरूणाचल।

गैस पाईप लाईन

I. हजीरा -विजयपुर - जगदीशपुर 3474 km लंबी। कावस (GJ), अंता (राजस्थान), औरेया (UP) के तीन विद्युत स्टेशन) विजयपुर, सवाईमाधोपुर, जगदीशपुर, शाहजहाँपुर, आँवला व बबराला के छ: उर्वरक संयंत्र।
II. मेहसाना भटिंडा पाईप लाईन।
III. जामनगर लोनी।
IV. सलाया (गुजरात) मथुरा हिटेड पाइप लाइन।
V. दाभोल बंगलुरू।

तेल पाईप लाईन

I. नहरकटिया - नूनामती - बरौनी
II. बम्बई हाई - मुम्बई - अंकलेश्वर - कोयली।
III. सलाया - कोयली - मथुरा


भंडार (Reserve) ( बिदुमिन्स ) ( गोंडवाना )

कोयला :-

I. झारखंड 39% ( देश का )
झरिया में सर्वाधिक
उत्तरी करनपुरा, राजमहल, डाल्टनगंज, रानीगंज हुतुर
II. उड़ीसा 36% ( देश का )
तालचर सबसे बड़ा ( भारत का सबसे बड़ा )
Ib नदी। ( इन्द्रावती - ब्राह्मणी )
III. छत्तीसगढ़ (सोनहट, झिलिमिली, चिरीमीरी लाखनपुर, हसदेव- अरंड)
IV. पश्चिम बंगाल (रानीगंज, बीरभूम, दार्जिलिंग. बरझोरा)
V. मध्यप्रदेश (पैंच-कान्हा, सोहागपुर, पत्थरखेरा, उमरिया)
VI. तेलंगाना गोदावरी घाटी।
VII महाराष्ट्र कमठी, वर्धा घाटी, नंद बंदेर- सिक्किम की रिंगीत घाटी, उत्तरप्रदेश में सिंगरौली, असम में माकुम, अरूणाचल में नामचिक
मेघालय, नागालैंड, आंध्र व बिहार में भी।

उत्पादन

1. छत्तीसगढ़ (22)%
II. झारखंड (20%)
III. उड़ीसा (20%)
IV. मध्यप्रदेश
V. तेलंगाना।


लिग्नाईट भंडार

1. तमिलनाडु- कुडडालुर - नेवेली क्षेत्र।
तंजौर मन्नारगुड़ी (भारत का सबसे बड़ा) रामनाथपुरम्
2 राजस्थान :-
I
बाड़मेर में सर्वाधिक । कपूरड़ी, जालिपा, बोथिया, गिरल, सोनड़ी।
II. बीकानेर पलाना, बरसिंगसर, गुढ़ा, लालमडेसर ।
III. नागौर कसनाऊ, निम्बड़ी व पाली
IV. जालौर सेवाड़ा
3. गुजरात कच्छ-उमरसर पंधारो। भरूच भूरी। भावनगर व सूरत।
4. जम्मू-कश्मीर
5. केरल
6. पुडुचेरी

उत्पादन

I. तमिलनाडु
II. गुजरात
III राजस्थान


मैंगनीज

भंडार

1. उड़ीसा
II. मध्यप्रदेश
III. महाराष्ट्र
IV. कर्नाटक
V. आंध्र
VI. झारखंड
VII. राजस्थान।

क्षेत्र

a. उड़ीसा अंगुल, केन्दुझार, बोनाई, कोरापुट।
b. झारखंड सिंहभूम- बाबरिया- पुखरिया।
c. प. बंगाल मोदिनीपुर-बेलपहाड़ी।
d. मध्यप्रदेश बालाघाट क्षेत्र में- उकवा, बारवेली, जमरपानी , पोनिया
e. महाराष्ट्र भंडारा- चिखला, नागपुर में मानसर।
f. आंध्र देवादा
g. कर्नाटक सन्दूर पहाड़ी।

उत्पादन

I. महाराष्ट्र (39.01%)
II. मध्यप्रदेश (37.86%)
III. उड़ीसा
IV. कर्नाटक
V. आंध्रप्रदेश।


लौह-अयस्क (Iron- Ore)

भंडार

हेमेटाईट :-

I. उड़ीसा
II. झारखंड
III. छत्तीसगढ़
IV. कर्नाटक मैग्नेटाईट-
a. कर्नाटक
b. आंध्र
c. राजस्थान
d. तमिलनाडु

उत्पादक

I. उड़ीसा (50)%
II. छत्तीसगढ़
III. झारखंड
IV. कर्नाटक।

क्षेत्र

छत्तीसगढ़ डली राजहरा, बेलाडीला
कर्नाटक बाबाबूदन, कुदुमुख, बंगारकला, चित्रदुर्ग।
उड़ीसा गुरूमहिषानी, पोपम्पाद, बादाम पहाड़ी।
झारखंड पंसिराबारू, नोवामंडी, गुआ।
आंध्र आंगोल-कर्नूल, गुण्डलक्कमा।
गोवा अदुलमाल
प. बंगाल दामूदा।


आण्विक खनिज

यूनियम धारवाड़ तथा आर्कियन श्रेणी की चट्टानें । जादूगोड़ा (झारखंड) प्रसिद्ध (सिंहभूम क्षेत्र) केरूआडँगरी में भी।
II. बेरीलियम आग्नेय चट्टानों से प्राप्त। राजस्थान, झारखंड, आंध्र व तमिलनाडु।
III. थोरियम भारत विश्व का सर्वाधिक थोरियम उत्पादक देश है। प्रि-कैम्ब्रियन युग की चट्टानों से प्राप्त।
केरल का तटीय भाग। नीलगिरी, हजारीबाग, उदयपुर
IV. ग्रेफाइट रिएक्टरों में मंदक के रूप में प्रयुक्त । उड़ीसा, तमिलनाडु व झारखंड में।
a. तमिलनाडु तिरूनवेली (50)%
b. उड़ीसा कालाहांडी बोलंगिरी
c. झारखंड
d. आंध्र वारंगल क्शिाखापट्टनम् ।
V. जिरकन केरल की तटीय बालू मिट्टी में । तमिलनाडु व उड़ीसा में भी।
VI एंटीमनी हिमाचल का कांगड़ा, मध्यप्रदेश में जबलपुर ।
VII. बेराईट्स मंगमपोट (आंध्र) (आंध्र-राज. हिमाचल)।
VIII. क्रोमाईट उड़ीसा।


Post a Comment

0 Comments